नमाज़ पढ़ने को लेकर दर्ज FIR पहली विवेचना में ग़लत पाई, अब एक्सपंज कर दी गई।

उत्तर प्रदेश: (मुरादाबाद) आप को बता दें कि मुरादाबाद में घर में नमाज़ पढ़ने को लेकर जो FIR दर्ज की गई थी वो पहली विवेचना में ही ग़लत पाई गई और मात्र एक दिन में एक्सपंज कर दी गई। इस मामले को लेकर AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी का बड़ा बयान सामने आया था। ओवैसी इस मामले को सुनते ही आग बबूला हो गए। इस पर असदुद्दीन ओवैसी ने मुरादाबाद पुलिस और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को अहम जिम्मेदार ठहराया था।

उन्होंने कहा था कि क्या अब लोगों का घरों में नमाज पढ़ना भी गैरकानूनी हो गया है खुले में नमाज पढ़ने को लेकर सभी को आपत्ति होती है तो क्या अब मुसलमान घरों में भी नमाज नहीं पढ़ सकेंगे . लेकिन अब मुरादाबाद पुलिस का बड़ा बयान सामने आया है।उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट से एक पोस्ट को साझा किया है। देखिए

शिकायत कर्ताओं का यह कहना था कि इससे पहले यहां पर कभी भी सामूहिक तरीके से नमाज नहीं पढ़ी गई है। जिससे लोगों को लगता है कि यदि मुसलमान एक साथ नमाज पढ़ेंगे तो माहौल खराब हो सकता है। शिकायत करता हूं का यह भी कहना है कि यहां पर नई परंपरा शुरू की जा रही है इससे पहले भी एक बार नमाज इसी तरह से पढ़ी गई थी तब भी हमने शिकायत की थी तो इन लोगों ने नमाज पढ़ना इस सामूहिक तरीके से बंद कर दिया था।

ये भी पढ़ें:  सोनिया से मुलाकात के बाद लालू-नीतीश गदगद, 2024 को लेकर कही ये बात

लेकिन अब मुरादाबाद में घर में नमाज़ पढ़ने को लेकर जो FIR दर्ज की गई थी वो पहली विवेचना में ही ग़लत पाई गई और मात्र एक दिन में एक्सपंज कर दी गई। अब लोगों की प्रशासन से यह उम्मीद है कि प्रशासन को चाहिये इस प्रकार की झूठी FIR दर्ज कर माहौल ख़राब करने का प्रयास करने वालों के ख़िलाफ़ उचित कार्यवाही करे। और जाँच को अपने तरीके से निष्पक्ष करें।

 

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें