धर्म

नमाज़ पढ़ने को लेकर दर्ज FIR पहली विवेचना में ग़लत पाई, अब एक्सपंज कर दी गई।
उत्तर प्रदेश, धर्म, बड़ी खबर

नमाज़ पढ़ने को लेकर दर्ज FIR पहली विवेचना में ग़लत पाई, अब एक्सपंज कर दी गई।

उत्तर प्रदेश: (मुरादाबाद) आप को बता दें कि मुरादाबाद में घर में नमाज़ पढ़ने को लेकर जो FIR दर्ज की गई थी वो पहली विवेचना में ही ग़लत पाई गई और मात्र एक दिन में एक्सपंज कर दी गई। इस मामले को लेकर AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी का बड़ा बयान सामने आया था। ओवैसी इस मामले को सुनते ही आग बबूला हो गए। इस पर असदुद्दीन ओवैसी ने मुरादाबाद पुलिस और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को अहम जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने कहा था कि क्या अब लोगों का घरों में नमाज पढ़ना भी गैरकानूनी हो गया है खुले में नमाज पढ़ने को लेकर सभी को आपत्ति होती है तो क्या अब मुसलमान घरों में भी नमाज नहीं पढ़ सकेंगे . लेकिन अब मुरादाबाद पुलिस का बड़ा बयान सामने आया है।उन्होंने अपने ट्विटर अकाउंट से एक पोस्ट को साझा किया है। देखिए https://twitter.com/moradabadpolice/status/1564480323487797249?t=71Bf2l3M_-hLM0PuyKPRGw&s=19 शिकायत क...
क्या अब मोदी सरकार घरों में भी नमाज नहीं पढ़ने देगी! – असदुद्दीन ओवैसी
उत्तर प्रदेश, धर्म

क्या अब मोदी सरकार घरों में भी नमाज नहीं पढ़ने देगी! – असदुद्दीन ओवैसी

नई दिल्ली: मुरादाबाद के दूल्हे पुर गांव में दो घरों में लोगों ने जमात की नमाज पढ़ी तो हंगामा खड़ा हो गया जिसको लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है इसके बाद गांव वालों की शिकायत पर पुलिस ने मामले की जांच करते हुए 26 लोगों पर नामजद केस दर्ज किया है। जिन पर धार्मिक भावनाएं भड़काने का आरोप लगा है। AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी का इस मामले पर बड़ा बयान सामने आया है। इस पर असदुद्दीन ओवैसी ने मुरादाबाद पुलिस और उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को अहम जिम्मेदार ठहराया है उन्होंने कहा है कि क्या अब लोगों का घरों में नमाज पढ़ना भी गैरकानूनी हो गया है खुले में नमाज पढ़ने को लेकर सभी को आपत्ति होती है तो क्या अब मुसलमान घरों में भी नमाज नहीं पढ़ सकेंगे https://twitter.com/asadowaisi/status/1563937008262623233?t=a6Tz2TIW-gVxR1LJpSBhOA&s=19 ओवैसी ने ट्विटर के जरिए पीएम मोदी से यह सवाल पूछा है क्या अब नमाज पढ़...
धर्म: लैलतुल-जाएज़ा – इनाम वाली रात
धर्म, बड़ी खबर, लाइफ स्टाइल

धर्म: लैलतुल-जाएज़ा – इनाम वाली रात

ब्यूरो (मोहम्मद खुर्शीद अकरम सोज़)। रमज़ान के महीने की आख़री रात या चाँद रात की बड़ी अहमियत है । इस रात को “लैलतुल-जाएज़ा ” अर्थात “ इनाम वाली रात " भी कहा जाता है। इसकी अहमियत को वाज़ह (स्पष्ट) करते हुए मुसनद-ए-अहमद में हज़रत अबू हुरैरा की एक तवील रिवायतआई है , “नबी करीम ﷺ फ़र्माया कि मेरी उम्मत को रमज़ान में पाँच चीज़ें ऐसी दी गई हैं जी इस से पहले किसी उम्मत को नहीं दी गई हैं :- रोज़ेदार के मुँह की भभक अल्लाह त’आला के नज़दीक मुश्क की ख़ुशबू से ज़्यादा पाकीज़ा है। इफ़्तार तक फ़रिश्ते रोज़ेदारों के लिए इसतग़फ़ार करते रहते हैं। अल्लाह त’आला रोज़ाना जन्नत को मुज़य्यन करते हैं (सजाते हैं ) और फ़र्माते हैं कि अंक़रीब मेरे नेक बंदे अपने ऊपर से मेहनत और तक्लीफ़ को उतार फेंकेंगे और तेरे पास आयेंगे। इस महीने में सरकश श्यातीन को जकड़ दिया जाता है। लिहाज़ा ग़ैर-रमज़ान में इन्हें जो आज़ादी हासिल होती है वो इस महीन...
धर्म: रोज़ा, दरअसल मुसलमानों के लिए एक सालाना रिफ्रेशर ट्रेनिंग है
धर्म, बड़ी खबर, लाइफ स्टाइल

धर्म: रोज़ा, दरअसल मुसलमानों के लिए एक सालाना रिफ्रेशर ट्रेनिंग है

ब्यूरो(मोहम्मद ख़ुर्शीद अकरम सोज़): जैसा कि हम जानते हैं कि इस्लाम की बुनियाद पाँच चीज़ों पर रखी गई है :- 1) तौहीद यानि इस बात की गवाही देना कि अल्लाह / ईश्वर एक है और हज़रत मोहम्मद ﷺ उसके रसूल ( दूत ) हैं. 2) नमाज़ क़ायम करना , 3) माह-ए-रमज़ान के रोज़े रखना , 4) ज़कात यानि मालदार लोगों द्वारा निर्धन और मजबूर लोगों के लिए अपने जमा माल का 2.5 % निकालना / दान करना और 5) हज करना (अगर मालदार हो) . इस तरह माह-ए-रमज़ान का रोज़ा दीन-ए-इस्लाम के पाँच अरकान ( Elements ) में से एक अहम रुक्न ( Element ) है. यह इस्लाम की एक विशेष इबादत है. यह सब्र और बर्दाश्त की ट्रेनिंग है. . क़ुरआन में सूरह बक़रा की आयत 183 में अल्लाह पाक का फ़रमान है , “ ऐ ईमान लाने वालो ! तुम पर रोज़े फर्ज़ किए गए, जिस प्रकार तुम से पहले के लोगों पर किए गए थे, ताकि तुम तक़वा वाले और परहेज़गार बन जाओ .’ इसी सूरह की आयत 185 में इरशाद-ए-इलाही...
धारणा: चित्रगुप्त पूजा में करें यह काम तो स्वर्ग में मिलेगी जगह
धर्म, बड़ी खबर, लाइफ स्टाइल

धारणा: चित्रगुप्त पूजा में करें यह काम तो स्वर्ग में मिलेगी जगह

ब्यूरो(राम मिश्रा, अमेठी):चित्रगुप्त हिंदुओं के प्रमुख देवता माने जाते हैं। पुराणों के मुताबिक, वो अपने दरबार में मनुष्यों के पाप-पुण्य का लेखा-जोखा कर न्याय करते थे। धारणा है कि भगवान चित्रगुप्त मनुष्य के अच्छे और बुरे कामों का लेखा-जोखा रखते हैं। कायस्थ समाज के लोग आज चित्रगुप्त की आराधना कर कलम और दवात का भी पूजन करते हैं। प्राचीन मान्यताओं के अनुसार अगर आपके पास चित्रगुप्त फोटो उपलब्ध न हो तो कलश को प्रतीक मान कर चित्रगुप्त जी को स्थापित कर सकते हैं। एक सफेद कागज पर पांच देवताओं के नाम जैसे श्री गणेश जी सहाय नमः, श्री चित्रगुप्त जी सहाय नमः श्री शिवाय नमः आदि लिखकर उन्हें स्मरण करें। उसी कागज पर वो एक साल के आय-व्यय का हिसाब लिखकर भगवान के सामने रखते हैं। साथ ही भगवान चित्रगुप्त को अदरक और गुड़ का प्रसाद चढ़ाया जाता है। इसी क्रम में मंगलवार को अमेठी जिले के मुसाफिरखाना विकास खण्ड अ...
करवा चौथ: सुहागिनों ने की पति की दीर्घायु और स्वस्थ जीवन की कामना
धर्म, बड़ी खबर, लाइफ स्टाइल

करवा चौथ: सुहागिनों ने की पति की दीर्घायु और स्वस्थ जीवन की कामना

पीलीभीत(प्रमोद कुमार श्रीवास्तव)। करवा चौथ के अवसर पर देशभर में आज सुहागिन महिलाओं ने उपवास रखकर रात्रि में चन्द्रमा को अर्घ देकर अपने पति के दीर्घायु की कामना की। पीलीभीत में भी करवा चौथ की धूम दिखी। शाम होते ही सुहागिन महिलाओं ने सजना संवरना शुरू कर दिया था। चन्द्रमा को अर्घ देने के लिए पूजा का थाल लेकर महिलाएं अपने घरो की छत पर पहुंची। चन्द्रमा दिखाई दिया तो सुहागिन महिलाओं ने अपने पति की दीर्घायु और स्वस्थ जीवन की कामना करते हुए प्रार्थना की और चन्द्रमा को अर्घ दिया। चन्द्रमा को अर्घ देने के बाद सुहागिन महिलाओं ने अपने पति के चेहरे का दीदार किया और उपवास खोला। बता दें कि करवा चौथ कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। यह पर्व सुहागिन स्त्रियाँ अपने पति की दीर्घायु एवं अखण्ड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए मनाती हैं। यह व्रत सुबह सूर्योदय से पहले करीब 4 बजे के बाद शु...
दुर्गा प्रतिमाओं के पट खुले, शंख-ढोल-नगाड़े से गूँजी अमेठी, मां को मिला निमंत्रण
धर्म, बड़ी खबर, लाइफ स्टाइल

दुर्गा प्रतिमाओं के पट खुले, शंख-ढोल-नगाड़े से गूँजी अमेठी, मां को मिला निमंत्रण

ब्यूरो (राम मिश्रा अमेठी) : या देवी सर्वभूतेषु शक्तिरूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम: ... मां दुर्गा की भव्य प्रतिमाओं और आशीर्वादी स्वरूप के दर्शन मात्र से अमेठीवासी भाव-विभोर हैं दुर्गे दुर्गे रक्षणि स्वाहा... इस रक्षा मंत्र के जाप और वैदिक मंत्रोच्चार के साथ रविवार को अमेठी जिले के तमाम पूजा पंडालों,शक्तिस्थलों और देवी मंदिरों के पट आम दर्शन के लिए खोल दिए गए। माता का दर्शन और पूजा करने के लिए पूजा पंडालों में भीड़ लगनी शुरू हो गयी है। इसी क्रम में रविवार को अमेठी के मुसाफिरखाना के कस्थुनी में भी माता के पट आम दर्शन के लिये खोल दिये गये और इसके साथ ही दुर्गोत्सव का प्रारंभ भी हो गया। बता दे कि सपा एमएलसी शैलेन्द्र प्रताप सिंह व सपा के पूर्व मंत्री संदीप शुक्ल ने प्रतिमा का अनावरण व दीप प्रज्ज्वन किया और आयोजक एवं बीडीसी हनुमान जायसवाल को देवी देवताओं के चित्र भेंट क...
दावा: नन्द बाबा के इस पौणारिक धाम में मनुष्य ही नहीं जानवर तक के बदल जाते है स्वभाव
धर्म, बड़ी खबर, लाइफ स्टाइल

दावा: नन्द बाबा के इस पौणारिक धाम में मनुष्य ही नहीं जानवर तक के बदल जाते है स्वभाव

ब्यूरो (राम मिश्रा,अमेठी) :संसार मे कुछ लोग मानते हैं कि ईश्वर का अस्तित्व है हालाँकि कुछ लोग इसे नहीं मानते हैं लेकिन जब हम कुछ ऐसी घटना देखते हैं या उसका सामना करते हैं तो हमें महसूस होता है कि वास्तव में ईश्वर का अस्तित्व है और वह हमारे आस-पास मौजूद हैं। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में नन्द बाबा के एक पौणारिक धाम में मनुष्य की मानसिक विकृति ही नही ही बल्कि दुधारू मवेशियों के भी मर्ज दूर का दावा किया जा रहा है । नन्द के इस धाम में हिलोरे मारती आस्था और पूरा भारतीय रंग मान्यताएं अलग-अलग हैं लेकिन एक बात पर सभी सहमत हैं कि कभी न कभी तो बाबा नंद, कन्हैया और बलदाऊ के साथ यहां आए ही थे। मान्यताओं को माने तो ज्यादातर जानकार इसी पर एकमत हैं कि बाबा नंद ने यहां कभी पड़ाव किया था। बुजुर्ग बताते हैं कि बाबा नंद कन्हैया और बलदाऊ के साथ रामलला के दर्शन को अयोध्या जाते ...
दावा: महादेव के इस धाम में बदलता रहता है शिवलिंग का रंग और मूर्ति से निकलता है पानी
धर्म, बड़ी खबर, लाइफ स्टाइल

दावा: महादेव के इस धाम में बदलता रहता है शिवलिंग का रंग और मूर्ति से निकलता है पानी

ब्यूरो (राम मिश्रा,अमेठी) : भारत विभिन्न संस्कृतियों का देश है जिसके कारण विभिन्न राज्यों में सामाजिक आर्थिक और धार्मिक विविधताएं देखने को मिलती है। भारत में विभिन्न धर्म और संस्कृति के लोग पारस्परिक समभाव के साथ रहते हैं। इसके साथ ही भारतीय जादू-टोना चमत्कार अंधविश्वास आदि में विश्वास करते हैं लेकिन वास्तव में जादू-टोना और चमत्कार होते हैं या नहीं इसके बारे में स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता है। कुछ लोग मानते हैं कि ईश्वर का अस्तित्व है लेकिन कुछ लोग इसे नहीं मानते हैं लेकिन जब हम कुछ ऐसी घटना देखते हैं या उसका सामना करते हैं तो हमें महसूस होता है कि वास्तव में ईश्वर का अस्तित्व है और वह हमारे आस-पास मौजूद हैं। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले में महादेव के एक पौणारिक धाम में शिवलिंग के रंग बदलने और भगवती पार्वती के मूर्ति से पानी निकलने का दावा किया जा रहा ह...
धर्म: सकुचि दीन्ह रघुनाथ – डा. कौशल किशोर श्रीवास्तव
धर्म, लाइफ स्टाइल

धर्म: सकुचि दीन्ह रघुनाथ – डा. कौशल किशोर श्रीवास्तव

सुन्दर कांड के दोहा क्रमांक 49 (ख) के अनुसार "जो संपति सिव रावनहिं दीन्हि दिये दस माथ सोई संपदा विभीसन्हि सकुचि दीन्ह रघुनाथ" अब यहां प्रश्न उठता कि जब भगवान श्रीराम ने सुन्दर कांड तक लंका पर विजय ही प्राप्त नहीं की थी तब वह लंका भगवान विभीषण को कैसे दे सकते थे ? अस कृपा सिव जगत प्रावनी। देह सदा सिव मन भावनी।। एवं मस्तु कह प्रभु रन धीरा। मांगा तुरत सिंधु कर नीरा।। जदपि सखा तब इच्छा नाहीं। मोर दरस अमोघ जग माही।। अस कहि राम तिलक लेहि सारा। सुमन वृष्टि नभ भई अपारा।। रावण क्रोध अनल निज स्वास समीर प्रचण्ड। जरत विभीषणु राखेऊ दीन्हेहु राज अखण्ड।। जो सम्पति सिव रावनहि दीन्ह दिये दस माथ। सोई सम्पदा विभीषनहि सकुचि दीन्ह रघुनाथ।। उपरोक्त पंक्तियों से विदित होता है कि हालांकि विभीषण व्यक्त रूप में भगवान की मात्र भक्ति मांग रहे थे पर अव्यक्त रूप में उनके मन में लंकाधिपति बनने की आकांक्षा थ...