पीएम मोदी का वो बयान जो पश्चिम बंगाल में बनेगा बीजेपी की राह का रोड़ा

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में आज पांचवे चरण के चुनाव के लिए राज्य की 45 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा। अब तक हुए चार चरणों के चुनाव में बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस में भले ही कांटे की टक्कर रही हो लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी का एक बयान बीजेपी के लिए भी आठ चरणों के चुनाव तक मुश्किलें पैदा करेगा।

दरअसल पीएम नरेंद्र मोदी ने सिलीगुड़ी की एक चुनावी सभा में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर कटाक्ष करने के लिए कई बार दीदी, ओ दीदी का इस्तेमाल किया। पीएम मोदी का यह तरीका पश्चिम बंगाल की महिलाओं को पसंद नहीं आया है।

वहीँ बारासात में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं जब दीदी ओ दीदी बोल रहा हूं तब भी उनको गुस्सा आया, यह गुस्सा करने की चीज है क्या?

चौथे चरण के चुनाव से पहले कई महिलाओं ने पीएम मोदी के इस बयान पर न सिर्फ आश्चर्य जताया बल्कि पीएम मोदी के बयान को महिलाओं का अपमान भी बताया।

पीएम मोदी की इस भाषा पर तृणमूल कांग्रेस के कई नेताओं ने सवाल उठाये हैं। तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और ममता सरकार में मंत्री रहे सुब्रत मुखर्जी ने कहा कि प्रधानमंत्री को राज्य की जनता जवाब देगी। उनके यह बोल अब लोगों में चिढ़ पैदा कर रहे हैं। सुब्रत मुखर्जी का कहना है कि एक देश के प्रधानमंत्री के मुंह से इस तरह की भाषा शोभा नहीं देती। इसका जवाब उन्हें दो मई को मिल जाएगा।

ये भी पढ़ें:  शशि थरूर भी लड़ेंगे कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव, नामांकन फार्म लिया

पीएम के खिलाफ थाने में प्रथिमिकी:

दीदी ओ दीदी’ कहने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कोलकाता के अम्ह‌र्स्ट स्ट्रीट थाने में बंगाल सिटीजंस फोरम नामक संस्था की तरफ से प्राथमिकी दर्ज कराई गई है।

बंगाल सिटीजंस फोरम ने कहा कि पीएम मोदी को इस तरह की भाषा का इस्तेमाल बंद करते हुए माफी मांगनी चाहिए। फोरम की ओर से अम्ह‌र्स्ट स्ट्रीट थाने के सामने पीएम मोदी का पुतला भी फूंका गया और चुनाव आयोग से इसकी शिकायत करने की भी बात कही गई है।

तृणमूल कांग्रेस के सांसद महुआ मोइत्रा ने पीएम मोदी के दीदी ओ दीदी वाले बयान पर कहा, इस बार बंगाल ‘गो मोदी गो’ करेगा। उन्होंने कहा कि यह सड़कछाप भाषा है। हमारे यहां टपोरी टाइप के लोग इसी तरह की भाषा बोलते हैं।

वहीँ दूसरी तरफ पीएम मोदी का दीदी ओ दीदी वाला बयान महिलाओं के बीच तेजी से फैला है। पश्चिम बंगाल में महिलाएं पीएम मोदी के इस बयान पर नाराज़गी जता रही हैं। कई महिलाओं से बातचीत में खुलासा हुआ कि वे पीएम मोदी के इस बयान से काफी आहत हुई हैं और पीएम के इस बयान से पश्चिम बंगाल में महिलाओं को बीजेपी से दूर करने में बड़ी भूमिका अदा की है।

ये भी पढ़ें:  अमित शाह आप जहां दिल्ली में बैठते है वो अपराध में अव्वल नंबर पर आता है: तेजस्वी

यह मामला सिर्फ शहरी इलाको तक ही नहीं है, बल्कि पीएम मोदी का दीदी ओ दीदी का बयान गाँव देहात की महिलाओं तक पहुंच चूका है और अगले चरणों के चुनाव में बीजेपी को पीएम के बयान का खामियाजा भुगतना पड़ सकता है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें