संजय राउत की राज्यपाल कोश्यारी पर टिप्पणी, “वो राज्यपाल नहीं बीजेपी के प्रचारक हैं’

मुंबई। छत्रपति शिवाजी पर विवादित बयान के बाद महाराष्ट्र में राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी पर विपक्ष के हमले लगातार तेज होते जा रहे हैं। इस शिवसेना (उद्धव ठाकरे) के सांसद संजय राउत ने भी राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

संजय राउत ने यहां तक कहा कि वे कोश्यारी को राज्यपाल नहीं मानते। राउत ने कहा कि वे राज्यपाल नहीं बीजेपी के प्रचारक हैं। जो राज्यपाल होते हैं वे संविधान का ध्यान रखते हैं।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए संजय राउत ने कहा कि उन्हें हम राज्यपाल मानने को तैयार नहीं है वे तो BJP के प्रचारक हैं। जो राज्यपाल होते हैं वह तो संविधान का ध्यान रखते हैं, लेकिन जिस प्रकार से राज्यपाल (भगत सिंह कोश्यारी) ने जो भी वक्तव्य दिया है उससे महाराष्ट्र की जनता में गुस्सा है। उन्होंने कहा कि लोग इसका विरोध कर रहे हैं, महाराष्ट्र में राज्यपाल की गरिमा ख़त्म हो गई है।

राज्यपाल के विवादित बयान से नितिन गडकरी ने पल्ला झाड़ा:

इस बीच केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने छत्रपति शिवाजी को लेकर राज्यपाल कोश्यारी द्वारा दिए गए बयान से खुद को अलग करते हुए सफाई दी है। नितिन गडकरी ने रविवार को कहा कि शिवाजी हमारे भगवान हैं। हम उन्हें अपने माता-पिता से भी अधिक आदर देते हैं।

ये भी पढ़ें:  ब्रेकिंग: ईडी की छत्तीसगढ़ में कार्रवाही, मुख्यमंत्री की उपसचिव सौम्या गिरफ्तार

गौरतलब है कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने विवादित बयान देते हुए कहा था कि “पहले जब आपसे पूछा जाता था कि आपका आइकन कौन है, तो उत्तर जवाहरलाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस और महात्मा गांधी होते थे। महाराष्ट्र में आपको कहीं और देखने की जरूरत नहीं है (क्योंकि) यहां बहुत सारे आइकन हैं। जबकि छत्रपति शिवाजी महाराज पुराने दिनों के प्रतीक थे, अब बीआर अंबेडकर और नितिन गडकरी हैं।”

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें