ज्ञानवापी मामला: शिवलिंग’ की कार्बन डेटिंग के लिए हिंदू पक्ष ने दायर की याचिका

वाराणसी। ज्ञानवापी मस्जिद मामले में हिन्दू पक्ष की तरफ से कोर्ट में शिवलिंग की कार्बन डेटिंग के लिए याचिका दायर की गई है। ‘शिवलिंग’ की कार्बन डेटिंग के लिए हिंदू पक्ष की याचिका पर वाराणसी कोर्ट ने मुस्लिम पक्ष को नोटिस जारी किया है। इस मामले में अगली सुनवाई 29 सितंबर को होगी।

ज्ञानवापी मामले पर हिंदू पक्ष के वकील विष्णु शंकर जैन ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से कहा कि “हम कार्बन डेटिंग की मांग कर रहे हैं। मुस्लिम पक्ष का कहना है कि यह एक फव्वारा है, हमारा कहना है यह शिवलिंग है। एक स्वतंत्र निकाय को इसकी जांच कर पता लगाना होगा। हम कार्बन डेटिंग की मांग के लिए एक आवेदन दाखिल कर रहे हैं।”

उन्होंने बताया कि कोर्ट ने कार्बन डेटिंग के लिए हमारे आवेदन पर नोटिस जारी किया और मुस्लिम पक्ष से आपत्ति की मांग की है। 29 सितंबर को निपटारा होगा। कोर्ट ने 8 सप्ताह(अगली सुनवाई की तैयारी के लिए मस्जिद समिति द्वारा मांग) का समय खारिज कर दिया।

वहीँ हिन्दू पक्ष द्वारा शिवलिंग की कार्बन डेटिंग को लेकर दायर की गई याचिका पर मुस्लिम पक्ष का कहना है कि यह एक मात्र फव्वारा है। उन्होने कहा कि एक स्वतंत्र निकाय को इसकी जांच कर पता लगाना होगा। हम कार्बन डेटिंग की मांग के लिए एक आवेदन दाखिल कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें:  देश में सद्भाव नष्ट करने पर आमादा है मोदी सरकार: राहुल

क्या होती है कार्बन डेटिंग:

कार्बन डेटिंग अति प्राचीन वस्‍तुओं की आयु जानने की एक विधि है। जिसमें उन वस्‍तुओं में विद्यमान कार्बन के विभिन्‍न रूपों की मात्रा को मापा जाता है। इस पद्धति से किसी चीज़ की आयु या उसके स्थापना के समय का अनुमान लगाया जा सकता है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें