उप्र में शहरी निकाय चुनाव कराये जाने का रास्ता साफ़, कोर्ट ने कहा बिना OBC आरक्षण करायें चुनाव

उप्र में शहरी निकाय चुनाव कराये जाने का रास्ता साफ़, कोर्ट ने कहा बिना OBC आरक्षण करायें चुनाव

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में शहरी स्थानीय निकाय चुनावो के लिए रास्ता साफ़ हो गया है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों के अनुसार ‘ट्रिपल टेस्ट फॉर्मूले’ के बिना सरकार द्वारा तैयार किए गए ओबीसी आरक्षण के मसौदे को चुनौती देने वाली जनहित याचिकाओं पर हाई कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बैंच ने अपने फैसले में ओबीसी आरक्षण के लिए राज्य सरकार द्वारा पांच दिसंबर को तैयार मसौदा अधिसूचना को रद्द करते हुए निकाय चुनावों को बिना ओबीसी आरक्षण के कराने के आदेश दिए हैं।

उत्तर प्रदेश में स्थानीय नगर निकाय चुनाव कराये जाने के लिए राज्य सरकार ने इस महीने की शुरुआत में त्रिस्तरीय नगरीय निकाय चुनाव में 17 नगर निगमों के महापौर, 200 नगर पालिका परिषदों के अध्यक्षों और 545 नगर पंचायतों के लिए आरक्षित सीटों की अनंतिम सूची जारी करते हुए सात दिनों के भीतर सुझाव/आपत्तियां मांगी थी और कहा था कि सुझाव/आपत्तियां मिलने के दो दिन बाद अंतिम सूची जारी की जाएगी।

राज्य सरकार ने पांच दिसंबर के अपने मसौदे में नगर निगमों की चार महापौर सीटें ओबीसी के लिए आरक्षित की थीं, जिसमें अलीगढ़ और मथुरा-वृंदावन ओबीसी महिलाओं के लिए और मेरठ व प्रयागराज ओबीसी उम्मीदवारों के लिए आरक्षित थे. दो सौ नगर पालिका परिषदों में अध्यक्ष पद पर पिछड़ा वर्ग के लिए कुल 54 सीटें आरक्षित की गयी थीं जिसमें पिछड़ा वर्ग की महिला के लिए 18 सीटें आरक्षित थीं।

ये भी पढ़ें:  पंजाब के 11 जिलों में किसान रविवार को 3 घंटे के लिए रेल पटरियां जाम करेंगे

इनमे राज्य की 545 नगर पंचायतों में पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित की गयी 147 सीटों में इस वर्ग की महिलाओं के लिए अध्यक्ष की 49 सीटें आरक्षित की गयी थीं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें

TeamDigital