अब राजस्थान का मामला हल करेगी कांग्रेस, दिल्ली में राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट

नई दिल्ली। पंजाब में कांग्रेस में पैदा हुई रार को हल करने के बाद अब माना जा रहा है कि पार्टी राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच चल रही रार को हल करने में जुट गई है।

इस बीच आज दिल्ली पहुंचे सचिन पायलट ने पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से उनके आवास पर मुलाकात की इस बैठक के दौरान पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी भी मौजूद रहीं। सचिन पायलट से पहले राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने भी राहुल गांधी से मुलाकात की।

माना जा रहा है कि पंजाब के बाद अब राजस्थान में भी मुख्यमंत्री बदला जाएगा और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पार्टी में फिर से कोई ज़िम्मेदारी दी जा सकती है।

सचिन पायलट को हाल ही में दूसरी बार दिल्ली बुलाया गया है। इससे पहले 17 सितंबर को भी सचिन पायलट दिल्ली में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मिले थे। इस मुलाकात के बाद सचिन पायलट ने गुरुवार (23 सितंबर) को राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी से भी मुलाकात की थी।

ये भी पढ़ें:  5G Launched In India : PM मोदी ने भारत में लॉन्च की 5G सर्विस

कांग्रेस सूत्रों की माने तो राजस्थान में भी जल्द नेतृत्व परिवर्तन किये जाने की तैयारियां चल रही हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को एक बार फिर दिल्ली बुलाया जा सकता है और उन्हें पार्टी का संगठन महासचिव बनाया जा सकता है।

सूत्रों ने कहा कि गुजरात में पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान भी अशोक गहलोत गुजरात के कांग्रेस प्रभारी थे और सम्भवतः उन्हें फिर से गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बड़ी ज़िम्मेदारी दी जा सकती है।

वहीँ राजस्थान में 2023 के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में पार्टी राज्य कांग्रेस के अंदर किसी तरह की गुटबंदी नहीं रखना चाहेगी। यदि पार्टी सचिन पायलट और अशोक गहलोत में चल रही तकरार को खत्म नहीं करा पाती तो विधानसभा चुनाव में पार्टी की गुटबंदी और आंतरिक कलह उसे बड़ा नुकसान पहुंचाएगी।

फिलहाल देखना है कि राहुल गांधी और सचिन पायलट की आज की मुलाकात के बाद आगे क्या डवलपमेंट होता है। राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच चल रहे शीत युद्ध को खत्म कराने के लिए पार्टी क्या कर रहे हैं ? इस सवाल पर पार्टी ने अभी तक आधिकरिक तौर पर कोई बयान नहीं दिया है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें