सिब्बल बोले, ‘अपनी लापरवाहियों के लिए देश से माफ़ी मांगें पीएम मोदी’

नई दिल्ली। वरिष्ठ कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने आज कोरोना महामारी से निपटने में सरकार पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए कहा कि अपनी लापरवाहियों के लिए पीएम मोदी को देश से माफ़ी मांगनी चाहिए।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने कहा कि जिस तरह से केंद्र ने कोरोना नियमों की चेतावनी को नजरअंदाज किया और राजनीतिक रैलियां और कुंभ का आयोजन किया गया, इससे ये पता चला है कि वो कोरोना की दूसरी लहर को संभालने में उन्होंने लापरवाही की है।

कपिल सिब्बल ने कहा कि कोरोना महामारी के बीच चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश असम, पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव अप्रैल में आयोजित किए गए थे जबकि पिछले महीने हरिद्वार में एक महीने का कुंभ भी आयोजित किया गया।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने सोचा कि COVID-19 महामारी समाप्त हो गई है और उन्हें वर्ल्ड इकोनॉमिक फ़ोरम द्वारा भी सराहा गया है। हालांकि, वे नहीं जानते थे कि ऐसे भी हालात सामने आएंगे जब कोई टेस्ट नहीं होगा और कोई ऑक्सीजन नहीं होगा।

सिब्बल ने कहा कि मार्च में, हमारी अपनी नौ लेबोरेटरी ने भी आगाह किया था कि एक नया COVID-19 वेरियंट भारत में बहुत तेजी से फैल जाएगा और समस्याएं होंगी। सरकार ने सोचा कि वे राजनीतिक रैलियों का आयोजन कर सकते हैं, कुंभ और सभी को व्यवस्थित कर सकते हैं।

ये भी पढ़ें:  अंकिता भंडारी हत्याकांड : अंकिता के परिजनों ने अंतिम संस्कार से किया इनकार, कहा?

उन्होंने कहा, “जिस तरह से उन्होंने लापरवाही दिखाई, वह इस बात का उदाहरण है कि महामारी से इस तरह नहीं निपटा जाना चाहिए। प्रधानमंत्री को देश के सामने आना चाहिए और माफी मांगनी चाहिए।”

कपिल सिब्बल ने कोरोना के बढ़ती संख्या पर कहा पिछले कुछ दिनों से रोजाना कोरोना के तीन लाख से अधिक नए केस और 3000 से अधिक मौतें दर्ज की जा रही हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार कोरोना से लड़ने के लिए कोई नीति बनाने की जगह चुनाव लड़ने की रणनीति बनाती रही। जिसका नतीजा आज पूरा देश झेल रहा है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें