उज्जैन जिले में कोविड नियंत्रण कार्यों के सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं: स्वास्थ्य मंत्री

उज्जैन(विशाल जैन)। प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ.प्रभुराम चौधरी ने आज बृहस्पति भवन में उज्जैन जिले में कोरोना नियंत्रण के लिये किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की।

उन्होंने कहा कि जिले में कोविड नियंत्रण के प्रभावी कार्यों का सकारात्मक परिणाम सामने नजर आ रहा है। यहां पर अन्य जिलों की अपेक्षा किल कोरोना अभियान के तहत दो बार सर्वेक्षण हो चुका है।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि जिले में ग्रामीण क्षेत्र में ऑक्सीजन बेड बढ़ाने को लेकर अभूतपूर्व कार्य हुआ है जो अन्य जिले में दिखाई नहीं देता। स्वास्थ्य मंत्री डॉ.चौधरी ने निर्देश दिये हैं कि राज्य शासन द्वारा चलाई जा रही कोविड उपचार योजना का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये। इस योजना का लाभ गरीबों तक पहुंचे, यह सुनिश्चित किया जाना चाहिये। उन्होंने कोविड सहायता केन्द्र के बारे में भी ध्वनि प्रसारक यंत्रों से अनाउंसमेंट कराने के लिये कहा है।

बैठक में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव, सांसद श्री अनिल फिरोजिया, विधायक श्री पारस जैन, कलेक्टर श्री आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री सत्येन्द्र कुमार शुक्ल, श्री विवेक जोशी, श्री बहादुरसिंह बोरमुंडला, पूर्व विधायक श्री राजेन्द्र भारती, जिला पंचायत सीईओ श्री अंकित अस्थाना, स्मार्ट सिटी सीईओ श्री जितेन्द्रसिंह चौहान, सीएमएचओ डॉ.महावीर खंडेलवाल सहित विभिन्न अधिकारी मौजूद थे।

ये भी पढ़ें:  Live: राजस्थान में 92 कांग्रेस विधायकों ने स्पीकर को इस्तीफे सौंपे

बैठक में उच्च शिक्षा एवं उज्जैन के कोविड प्रभारी मंत्री डॉ.मोहन यादव ने जिले में किये जा रहे कोविड नियंत्रण कार्यों के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं के सहयोग से उज्जैन शहर में पीटीएस एवं प्रशांति गार्डन में कोविड केयर सेन्टर संचालित हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि जिले में अप्रैल माह में जहां कुल बेड की क्षमता 443 ही थी, वहीं आज की स्थिति में प्रायवेट एवं सरकारी दोनों मिलाकर जिले में 2582 कोविड बेड उपलब्ध हैं।

बैठक में स्वास्थ्य मंत्री डॉ.चौधरी द्वारा बिन्दुवार समीक्षा की गई तथा निर्देश दिये गये कि कोरोना चेन तोड़ने के लिये गंभीरतापूर्वक निरन्तर प्रयास किये जायें। जितनी जल्दी कोरोना कंट्रोल होगा, उतनी जल्दी ही आम गतिविधियों को खोला जा सकेगा।

बैठक में कलेक्टर श्री आशीष सिंह ने बताया कि जिले में शासकीय क्षेत्र में उज्जैन शहर में 3 कोविड हॉस्पिटल व ग्रामीण क्षेत्र में 11 कोविड हॉस्पिटल संचालित हैं। इसी तरह निजी क्षेत्र में उज्जैन शहर में 13 एवं ग्रामीण क्षेत्र में 5 कोविड हॉस्पिटल चल रहे हैं। जिला प्रशासन द्वारा 16 फीवर क्लिनिक, 15 कोविड सहायता केन्द्र संचालित किये जा रहे हैं। इसी तरह उज्जैन शहर में दो कोविड केयर सेन्टर भी चल रहे हैं।

कलेक्टर ने किल कोरोना अभियान की जानकारी देते हुए बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में 14 लाख 45 हजार 852 व्यक्तियों का सर्वे करने का लक्ष्य निर्धारित था। इसमें से 14 लाख 33 हजार 136 व्यक्तियों तक 1470 सर्वे टीम द्वारा सर्वे किया गया तथा 8 हजार 81 सस्पेक्टेड चिन्हित किये गये। इन सभी को कोरोना किट वितरित कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें:  बैंकॉक : प्रयुथ थाईलैंड के प्रधानमंत्री बने रह सकते हैं, लेकिन कार्यकाल सीमा का उल्लंघन नहीं कर सकते : अदालत

सर्वे के दौरान ग्रामीण क्षेत्र में 224 पॉजीटिव कोरोना मरीजों की पहचान की गई। आयुष्मान भारत योजना के तहत जिले में कुल 17 अस्पताल इंपैनल्ड किये गये गये हैं। जिले में अब तक 6 लाख 47 हजार 888 व्यक्तियों के आयुष्मान कार्ड बना दिये गये हैं। बैठक में पुलिस अधीक्षक श्री सत्येन्द्र कुमार शुक्ल ने कोरोनाकाल की पुलिस व्यवस्थाओं की जानकारी दी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें