कांग्रेस का आरोप: मणिपुर में PMGSY में हुआ 1,700 करोड़ का घोटाला, CBI जांच की मांग

कांग्रेस का आरोप: मणिपुर में PMGSY में हुआ 1,700 करोड़ का घोटाला, CBI जांच की मांग

नई दिल्ली। कांग्रेस ने मणिपुर में बड़े घोटाले का आरोप लगाया है। पार्टी का आरोप है कि मणिपुर में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना(PMGSY) में 1700 करोड़ रुपये का घोटाला हुआ है। इतना ही नहीं कांग्रेस इसकी सीबीआई जांच की मांग भी की है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे एक पत्र में, मणिपुर कांग्रेस प्रमुख के मेघचंद्र ने कहा कि उनके नेतृत्व में कांग्रेस की एक टीम द्वारा मणिपुर में पीएमजीएसवाई “सड़क घोटाला” उजागर किया गया है और पिछले कुछ महीनों से वे मीडिया के साथ, पहाड़ियों के अंदरूनी हिस्सों चुराचांदपुर, नोनी और कामजोंग जैसे जिलों का दौरा कर रहे हैं। ।

उन्होंने आरोप लगाया कि कई जिलों में सड़कों का निरीक्षण करने के बाद यह पाया गया कि सड़क निर्माण के लिए धन आवंटन और उनके काम पूरा होने के रिकॉर्ड के बावजूद वहां सड़क निर्माण का कोई काम नहीं किया गया। अपने पत्र में, मणिपुर कांग्रेस प्रमुख ने कहा कि 1,700 करोड़ रुपये के “घोटाले” की जांच होनी चाहिए और लोगों के साथ न्याय किया जाना चाहिए।

मेघचंद्र ने घोटाले में लिप्त मंत्री या मंत्रियों, मुख्य अभियंताओं, संबंधित अधिकारियों, ठेकेदारों, कंपनियों और बिचौलियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की भी मांग की।

मणिपुर कांग्रेस के प्रवक्ता निंगोमबम बुपेंडा मेइती ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि मणिपुर में भाजपा की गौरवशाली डबल इंजन सरकार के तहत पीएमजीएसवाई के लिए निर्धारित 1,700 करोड़ रुपये की हेराफेरी की गई।

ये भी पढ़ें:  371 करोड़ रुपये के कौशल विकास निगम घोटाले में पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू गिरफ्तार

एआईसीसी के राज्य प्रभारी भक्त चरण दास ने आरोप लगाया कि भाजपा द्वारा चुनाव लड़ने के लिए धन का इस्तेमाल किया गया है। उन्होंने कहा कि पूरे “पीएमजीएसवाई सड़क घोटाले” की सीबीआई जांच कराई जानी चाहिए और जांच के लंबित रहने के दौरान संबंधित या शामिल मंत्रियों को हटाया जाना चाहिए।

कांग्रेस ने सरकारी रिकॉर्ड में सड़क निर्माण का कार्य पूर्ण होने की पुष्टि के बावजूद धरातल पर कार्य शुरू किए बिना निकाली गई पूरी राशि की वसूली की भी मांग की।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें

TeamDigital