Aligarh : अलीगढ़ में अमोनिया गैस रिसाव पर शासन ने FSL भेजा वेल्डिंग पाइप का टुकड़ा, बैठाई जांच

अलीगढ़ की मीट फैक्ट्री में अमोनिया गैस रिसाव होने से 59 लोग बेहोश हो गए थे. मामले में 6 लोगों की गिरफ्तारी हुई थी, मीट फैक्ट्री का मालिक अभी फरार चल रहा है. मामले में शासन ने जांच बैठा दी है. इसके लिए 3 सदस्यीय कमेटी गठित की गई है

Aligarh News: अलीगढ़ के तालसपुर खुर्द स्थित अलदुआ मीट फैक्ट्री में अमोनिया गैस रिसाव होने से 59 लोग बेहोश हो गए थे. मामले में 6 लोगों की गिरफ्तारी हुई थी, मीट फैक्ट्री का मालिक अभी फरार चल रहा है. मामले में शासन ने जांच बैठा दी है. इसके लिए 3 सदस्यीय कमेटी गठित की गई है. जिस पाइप से अमोनिया गैस का रिसाव हुआ था, उस वेल्डिंग युक्त पाइप को विधि विज्ञान प्रयोगशाला में जांच के लिए भेजा गया है.

अमोनिया गैस रिसाव मामले पर शासन ने बैठाई जांच

अलीगढ़ के रोरावर थाना क्षेत्र में तालसपुर स्थित अलदुआ मीट फैक्ट्री में अमोनिया गैस रिसाव कांड में शासन ने विस्तृत जांच के लिए 3 सदस्यीय कमेटी गठित कर दी है. इसमें अलीगढ़ कमिश्नर गौरव दयाल, डीआईजी दीपक कुमार, संयुक्त आयुक्त उद्योग को रखा गया है. कमेटी ने जांच शुरू कर दी है. कमेटी को 2 दिन में रिपोर्ट देनी है. घटना वाले दिन अलीगढ़ डीएम इंद्र विक्रम सिंह ने जांच के लिए मुख्य अग्निशमन अधिकारी, डायरेक्टर इंडस्ट्रीज के नेतृत्व में भी 2 सदस्य कमेटी गठित की थी.

ये भी पढ़ें:  गुजरात चुनाव के लिए बीजेपी का घोषणा पत्र: मंहगाई कम करने का कोई ज़िक्र नहीं

वेल्डिंग युक्त पाइप जांच के लिए भेजा एसएफएल

अलदुआ मीट फैक्ट्री में जिस वेल्डिंग हुए पाइप से अमोनिया गैस रिसाव हुआ था, उसे जांच के लिए एफएसएल यानी विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा गया है. जांच के बाद पता चलेगा कि अमोनिया गैस रिसाव किस कारण हुआ था. अलदुआ मीट फैक्ट्री का मालिक जहीर घटना वाले दिन से ही फरार है. 3 टीमें जहीर की तलाशी में जुटी हैं. जहीर का फोन भी सर्विलांस में लगा हुआ है, उसके परिवार वालों से पूछताछ की जा रही है.

जहीर ने 2007 में ज्वाइन की थी बसपा

मामले में पुलिस ने 7 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था, जिसमें से 6 को घटना वाले दिन ही गिरफ्तार कर लिया था. अलदुआ मीट फैक्ट्री का मालिक जहीर अभी फरार चल रहा है, जिसकी तलाश में पुलिस जुटी हुई है. अलीगढ़ में बसपा के जिलाध्यक्ष हरजीत सिंह ने मीडिया को बताया कि जहीर ने 2007 में बसपा को ज्वाइन की थी. 2012 और 2017 के विधानसभा चुनाव में छर्रा विधानसभा से टिकट मांगा था, पर टिकट नहीं मिला था, जिसके बाद जहीर बसपा के कार्यक्रमों में नजर नहीं आया और न ही किसी भी प्रकार का इस्तीफा दिया.

किशोरों से मीट फैक्ट्री में कराई जाती थी मजदूरी

ये भी पढ़ें:  झारखंड के सीएम सोरेन से ईडी की 9 घंटे लंबी पूछताछ, सोरेन का दावा, 'ईडी के सभी आरोप निराधार'

मीट फैक्ट्री में किशोरों से मजदूरी कराई जाती थी. गैस रिसाव से बेहोश हुए पीड़ितों में 16 किशोरियां हैं. बेहोश लोगों की उम्र 16 से 55 तक है, लेकिन अधिकर लड़कियां बेहोश हुई थीं. उप श्रम आयुक्त सियाराम ने मीडिया को बताया की मीट यूनिट का श्रम प्रवर्तन अधिकारियों की टीम ने निरीक्षण किया, जिसमें 16 किशोरियों से कार्य कराना पाया गया. इसकी रिपोर्ट शासन को भेज दी गई है और आगामी कार्रवाई की जा रही है

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें