तेलंगाना: मुसलमानो के लिए रिजर्वेशन की मांग पर अड़े ओवैसी

हैदराबाद। तेलंगाना में मुसलमानो के लिए आरक्षण को लेकर आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) और तेलंगाना की केसीआर सरकार के बीच तल्खी बढ़ती दिखाई दे रही है।

एआईएमआईएम के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असददुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को कहा कि आंध्र प्रदेश के विभाजन के बाद हमने तेलंगाना के नए CM से मुलाकात की थी और उन्होंने मुस्लिमों के आर्थिक, स्वास्थ्य और गरीबी के सिलसिले में कमेटी को बनाया। कमेटी ने सभी ज़िलों का दौरा कर विस्तृत रिपोर्ट दायर की।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए ओवैसी ने कहा कि रिपोर्ट में कहा कि मुसलमानों को 9-12 फीसदी आरक्षण मिलना चाहिए। तेलंगाना सरकार ने बाद में एक बिल पास किया जिसमें कहा गया कि मुसलमानों के लिए 12% आरक्षण होना चाहिए। उस बिल को तेलंगाना में पास करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार को भेजा गया।

उन्होंने राज्य के मुसलमानो के लिए आरक्षण को आवश्यकता बताते हुए कहा कि मुसलमानो के लिए आरक्षण के प्रस्ताव वाला बिल केंद्र सरकार को भेजे जाने के बाद उन्होंने (मुख्यमंत्री) कुछ एक्शन नहीं लिया। हमने सरकार से प्रतिशत बढ़ाने की अपील की। राज्य सरकार को इस पर निर्णय लेना चाहिए और अनुच्छेद 15 और 16 की जो आवश्यकता है वो उससे पूरी होता है।

ये भी पढ़ें:  असम हाईकोर्ट की बड़ी टिप्पणी: जांच के नाम पर घरों पर बुलडोजर चलाना किसी कानून में नहीं

गोरतलब है कि तेलंगाना में आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के पास 7 विधायक हैं और पार्टी राज्य की टीआरएस सरकार को मुद्दों पर आधारित समर्थन देती रही है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें