अमित शाह आप जहां दिल्ली में बैठते है वो अपराध में अव्वल नंबर पर आता है: तेजस्वी

पटना। बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने गृहमंत्री अमित शाह के बिहार दौरे को लेकर सवाल उठाये हैं। उन्होंने कहा कि अमित शाह बिहार क्यों आये हैं ये सब जानते हैं। तेजस्वी ने कहा कि मैंने कहा था जब अमित शाह आएंगे तो कहेंगे की जंगल राज है। अमित शाह आप जहां दिल्ली में बैठते है वो अपराध में अव्वल नंबर पर आता है। NCRB के आकड़ों के मुताबिक दिल्ली में अपराध बिहार से अधिक है। देश की राजधानी सुरक्षित नहीं है।

तेजस्वी ने कहा कि मैंने कहा था कि जब वे(अमित शाह) आएंगे तो बेकार की बात करेंगे। क्या हुआ 15 लाख देने का? कल मैंने प्रधामंत्री मोदी का 2014 का वीडियो ट्वीट किया था जिसमें बिहार पर विशेष ध्यान देने की बात थी। उन्होंने रोजगार पर बात नहीं कि महंगाई पर बात नहीं की।

मेरे बिहार आने से लालू-नीतीश की जोड़ी के पेट में दर्द हो रहा है: अमित शाह

इससे पहले शुक्रवार को गृहमंत्री अमित शाह ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्णिया के रंगभूमि मैदान में ‘जन भावना महासभा’ में हिस्सा लिया। सभा को संबोधित करते हुए अमित शाह ने कहा, “मैं यहां आया हूं तब लालू और नीतीश की जोड़ी को पेट में दर्द हो रहा है। वो कह रहे हैं कि बिहार में झगड़ा लगाने आए हैं, कुछ करके जाएंगे। झगड़ा लगाने के लिए मेरी जरूरत नहीं है लालू जी, आप झगड़ा लगाने के लिए पर्याप्त हो, आपने पूरा जीवन यही काम किया है।”

ये भी पढ़ें:  अख़बारों से लुप्त होता साहित्य

अमित शाह ने कहा कि जब लालू जी सरकार में जुड़ गए हैं और नीतीश जी लालू की गोद में बैठे हैं। अब यहां डर का माहौल बन गया है। मैं आपको कहने आया हूं कि ये सीमावर्ती ज़िले भारत का हिस्सा हैं। किसी को डरने की जरूरत नहीं है। यहां पर नरेंद्र मोदी सरकार है।

गृहमंत्री ने कहा कि हम स्वार्थ और सत्ता की राजनीति की जगह सेवा और विकास की राजनीति के पक्षधर हैं। प्रधानमंत्री बनने के लिए नीतीश बाबू ने जिस एंटी कांग्रेस राजनीति से जन्म लिया था उसी के पीठ में छुरा घोंपकर RJD और कांग्रेस की गोदी में बैठने का काम किया।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें