अभी चुनाव प्रचार शुरू न करें राजनीतिक दल: संयुक्त किसान मोर्चा

नई दिल्ली। संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने पांच सितंबर को मुजफ्फरनगर में होने वाली महापंचायत से पहले शुक्रवार को राजनीतिक पार्टियों को आगाह करते हुए कहा कि वे चुनावी मोड में न आएं और वे चुनाव प्रचार करने से परहज़ करें। संगठन ने उनके प्रचार को ‘किसान विरोधी साजिश’ बताया।

अलग-अलग किसान संघों के संगठन एसकेएम ने एक बयान कहा कि चुनाव प्रचार “महीनों से किसानों द्वारा किए जा रहे महत्वपूर्ण संघर्ष से ध्यान भटकाएगा।”

एसकेएम ने कहा, “आम तौर पर चुनाव से संबंधित प्रचार चुनाव की तारीखों से कुछ महीने पहले शुरू हो जाता है” लेकिन विभिन्न दल पहले ही चुनाव मोड में आ गए हैं और असामान्य गतिविधियां कर रहे हैं।

बयान में कहा गया है, “हम केवल यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि यह एक किसान विरोधी साजिश है, जो किसानों द्वारा महीनों से किए जा रहे महत्वपूर्ण संघर्ष से ध्यान भटकाने के लिए है। हमने उनसे कहा है कि अगर वे किसानों के संघर्ष के सच्चे समर्थक हैं तो वे चुनाव प्रचार से परहेज़ करें।”

इसमें कहा गया है कि किसान भाजपा और उसके सहयोगी दलों के नेताओं के खिलाफ अपना विरोध तेज कर रहे हैं, और उन्होंने कुछ कार्यक्रमों के संबंध में हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्रियों को अल्टीमेटम दिया है।

ये भी पढ़ें:  गहलोत का यूटर्न, कल नामांकन दाखिल करेंगे दिग्विजय सिंह, निर्विरोध निर्वाचित होने की संभावना

एसकेएम ने कहा, “हरियाणा के रेवाड़ी के किसानों ने मुख्यमंत्री (मनोहर लाल खट्टर) को पांच सितंबर को रेवाड़ी में निर्धारित कार्यक्रम में आने को लेकर आगाह किया है और कहा है कि किसान निश्चित रूप से काले झंडे दिखाकर विरोध करेंगे। हिमाचल प्रदेश में, किसानों ने जब तक कि उनकी मांग पूरी नहीं हो जाती, तबतक मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को शिलाई में आगामी कार्यक्रम में भाग लेने के खिलाफ चेतावनी दी है।”

बयान में कहा गया है कि एसकेएम पांच सितंबर को मुजफ्फरनगर में ‘किसान महापंचायत’ का आयोजन करेगा, जिसकी तैयारियां अंतिम चरण में हैं।

एसकेएम ने कहा, “पांच सितंबर को जीआईसी मैदान में किसान महापंचायत में लाखों किसानों के शामिल होने की उम्मीद है, जो संयुक्त किसान मोर्चे के उत्तर प्रदेश मिशन की शुरुआत करेगा। ”

किसान संगठन ने कहा कि उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और मध्य प्रदेश में कई जगहों पर लोगों को जुटाने के लिए बैठकें हो चुकी हैं।

पंजाब के मोगा में बृहस्पतिवार को किसानों पर लाठीचार्ज और पानी की बौछारों के इस्तेमाल की निंदा करते हुए, एसकेएम ने किसानों के खिलाफ दर्ज मामलों को तुरंत वापस लेने और पुलिस के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।

एसकेएम ने यह भी कहा कि अगर आठ सितंबर तक किसानों के खिलाफ दर्ज मामले वापस नहीं लिए गए, तो उस दिन किसान संघों की बैठक में बड़े प्रदर्शन की कार्य योजना तय की जाएगी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें