राष्ट्र के नाम संबोधन में बोले इमरान खान, ‘किसी के सामने नहीं झुकुंगा, आखिर तक लड़ुंगा’

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में चल रही राजनीतिक उठापटक के बीच प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरूवार को राष्ट्र के नाम संदेश में कहा कि जब मैंने 25 साल पहले राजनीति शुरू की थी तब कहा था कि न मैं किसी के सामने झुकूंगा, न अपनी कौम को किसी के सामने झुकने दूंगा। अपनी कौम को किसी की गुलामी नहीं करने दूंगा।

इमरान खान ने कहा कि मैं भाग्यशाली हूं कि अल्लाह ने मुझे सब कुछ दिया- प्रसिद्धि, धन, सब कुछ। मुझे आज किसी चीज की ज़रूरत नहीं है, उसने मुझे सब कुछ दिया जिसके लिए मैं बहुत आभारी हूं। पाकिस्तान मुझसे सिर्फ 5 साल बड़ा है, मैं आजादी के बाद पैदा होने वाले देश की पहली पीढ़ी से हूं।

उन्होंने कहा कि 8 मार्च को एक विदेशी देश से हमें मैसेज आता है जिसमें बहाना दिया जाता है कि वे पाकिस्तान पर क्यों गुस्सा हैं। और अगर इमरान खान को हटा दिया जाता है तो पाकिस्तान को माफ कर दिया जाएगा। लेकिन अगर ऐसा नहीं होता तो पाकिस्तान को मुश्किल वक़्त का सामना करना पड़ेगा।

इमरान खान ने कहा कि मुझे किसी ने कहा कि आप इस्तीफा दे दीजिए। जो मेरे साथ क्रिकेट खेलते थे उन्होंने देखा है कि मैं आखिरी गेंद तक मुकाबला करता हूं। मैंने हार कभी ज़िंदगी में नहीं मानी। जो भी नतीजा होगा उससे बाद मैं और ज्यादा ताकतवर होकर सामने आऊंगा, जो भी नतीजा हो।

ये भी पढ़ें:  मैनपुरी उपचुनाव: डिंपल यादव ने जसवंतनगर में किया रोड शो, दिया बड़ा बयान

उन्होंने कहा कि रविवार को वोट(पाकिस्तान नेशनल असेंबली में) डाली जाएगी। इस रविवार को इस मुल्क़ का फैसला होने वाला है कि ये मुल्क़ अब किस तरफ जाएगा। क्या वही गुलाम नीति, भ्रष्ट लोग जिन पर 30 साल से भ्रष्टाचार के आरोप हैं।

उन्होंने कहा कि इस्लामिक रियासत बनाना हमारा मकसद था। इमरान खान ने कहा कि मेरे मेनिफेस्टो में इंसाफ दिलाना सबसे ऊपर था। अगर मेरे लिए इंसाफ जरूरी नहीं होता तो मैं राजनीति में क्यों आता, मेरे पास सब कुछ था। उन्होंने कहा कि जब मैं राजनीति में आया, तो मेरे तीन उद्देश्य थे – न्याय, मानवता और आत्मनिर्भरता सुनिश्चित करना। हमारे सामने दो रास्ते हैं, जिनमें से एक रास्ते को हम चुनना चाहते हैं। मैं राजनीतिक शास्त्र का छात्र रहा हूं, इसलिए राजनीति में आया।

इससे पहले गुरुवार को संसद ने अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा से पहले ही सदन को 3 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दिया गया। प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा राष्ट्र के नाम सम्बोधन से पहले उनके घर पर राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की 37वीं बैठक हुई। इस बैठक में पाकिस्तान के रक्षामंत्री, ऊर्जा मंत्री, सूचना एवं प्रसारण मंत्री, गृहमंत्री, वित्त मंत्री, मानवाधिकार मंत्री, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार, सहित कई मंत्री और अधिकारी मौजूद रहे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें