भारत के मुख्य न्यायाधीश रमना ने संसद में बिना चर्चा बिल पास होने पर उठाये सवाल

नई दिल्ली। नई दिल्ली। भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने संसद में कामकाज के तरीके पर सवाल उठाये हैं। उन्होंने संसद में बिना चर्चा बिल पास किये जाने को लेकर सवाल उठाते हुए कहा कि संसद में कार्यवाही के दौरान उचित बहस या चर्चा नहीं होती।

इतना ही नहीं चीफ जस्टिस रमना ने वर्तमान संसद की तुलना पहले के समय की संसद से की, जब संसद वकीलों से भरा हुआ रहता था। उन्होंने कहा कि वकीलों भी सार्वजनिक सेवा के लिए अपना समय संसद को दें।

सुप्रीम कोर्ट में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर आयोजित एक कार्यक्रम में सीजेआई रमना ने कहा कि पहले संसद के दोनों सदनों में बहस पॉजिटिव और समझदारी भरी हुआ करती थी, हर कानून पर विशेष चर्चा होती थी, मगर अब संसद के बनाए कानूनों में खुलापन नहीं रहा।

उन्होंने कहा, ‘ संसद के कानूनों में स्पष्टता नहीं रही। हम नहीं जानते कि कानून किस उद्देश्य से बनाए गए हैं। यह जनता के लिए नुकसानदायक है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वकील और बुद्धिजीवी सदनों में नहीं हैं।’

ये भी पढ़ें:  पीएम नरेंद्र मोदी को ममता बनर्जी ने दी क्लीन चिट, कहा?

जस्टिस रमना कहा, ‘अगर हम अपने स्वतंत्रता सेनानियों को देखें, तो उनमें से कई कानूनी बिरादरी से भी थे। लोकसभा और राज्यसभा के पहले सदस्य वकीलों के समुदाय से भरे हुए थे।’

उन्होंने कहा, ‘अब सदनों में जो कुछ हो रहा हैं, वह दुर्भाग्यपूर्ण है। पहले सदनों में बहस बहुत रचनात्मक और सकारात्मक हुआ करती थी। मैंने फाइनेंशियल बिलों पर बहस देखी है, बहुत रचनात्मक प्वाइंट्स बनाए जाते थे। कानूनों पर चर्चा की जाती थी और विचार-विमर्श होता था। रमना ने कहा, ‘मैं वकीलों से कहना चाहता हूं कि अपने आप को कानूनी सेवा तक सीमित न रखें, सार्वजनिक सेवा भी करें। इस देश को भी अपना ज्ञान और बुद्धि दें।’

मुख्य न्यायाधीश रमना ने कहा कि यह नीतियों और उपलब्धियों की समीक्षा करने का समय है। 75 साल देश के इतिहास में कोई छोटी अवधि नहीं है। जब हम स्कूल जाते थे तब हमें गुड़ का टुकड़ा और एक छोटा झंडा दिया जाता था। आज भले ही हमें इतना कुछ मिल जाए लेकिन हम खुश नहीं हैं। हमारा संतृप्ति स्तर नीचे पहुंच गया है।’

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें