सूर्य के ताबड़तोड़ शतक के बाद भारत का स्कोर 225 के पार 

सूर्य के ताबड़तोड़ शतक के बाद भारत का स्कोर 225 के पार 

Ind vs SL T20:  श्रीलंका के खिलाफ तीसरे T-20 में पावरप्ले की अंतिम गेंद पर बल्लेबाजी करने आया और मिडिल ओवरों में पावरप्ले वाले अंदाज में खेलकर दिखा दिया। सूर्यकुमार यादव ने देखते-देखते ताबड़तोड़ शतक लगा दिया। सिर्फ 45 गेंदों पर 222 की स्ट्राइक रेट से खेलते हुए सूर्या ने 100* रन पूरे । इस दौरान 8 गगनचुंबी छक्के और 6 क्लासिकल चौके लगाए। तमाम श्रीलंकाई गेंदबाज सूर्यकुमार यादव के सामने पानी भरते नजर आए।

दूसरे छोर पर लगातार विकेट गिरते रहे लेकिन सूर्यकुमार यादव नाबाद लौट कर आए। उन्होंने 51 गेंदों पर 9 छक्कों और 7 चौकों की मदद से तूफानी 112* रन बनाए। सूर्या ने केवल 43 टी-20 इंटरनेशनल पारियों में अपना तीसरा शतक पूरा कर लिया। विश्व क्रिकेट में इतनी कम पारियों में कोई खिलाड़ी 3 टी-20 इंटरनेशनल शतक नहीं लगा सका है।

आंकड़ों की बात करें तो टी-20 इंटरनेशनल करियर में अब तक 875 गेंदें खेलकर सूर्या ने 1578 रन बनाए हैं। ये रन 46.41 की एवरेज और 180.34 के स्ट्राइक रेट से आए हैं। इस दौरान क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट में सूर्या ने भारत के लिए 13 अर्धशतक और 3 शतक लगाए हैं।

जो लोग कह रहे थे कि उपकप्तान बनने के बाद सूर्या की बल्लेबाजी पर असर पड़ेगा, उनको पूरी तरह झुठला दिया। अपनी आकर्षक बल्लेबाजी से विरोधियों को खून के आंसू रुला दिया। जब दूसरे T-20 में ताबड़तोड़ अर्धशतक लगाने के बाद सूर्या भारत को जीत नहीं दिला पाया था, तो कुछ लोग उसे अर्धशतक को शतक में तब्दील ना कर पाने के लिए कोस रहे थे। इस शतक के बाद आलोचकों को समझ आ गया होगा कि यह खिलाड़ी सबसे अलग है। जब चलेगा तो मुकाबले को एकतरफा कर देगा।

ये भी पढ़ें:  भारत में जनसंख्या नियंत्रण कानून की जरूरत नहीं: नीतीश कुमार

एबी डिविलियर्स को दुनिया 360 डिग्री प्लेयर कहती थी लेकिन सूर्यकुमार यादव ने साबित कर दिया कि वह 720 डिग्री खिलाड़ी है। क्रिकेट इतिहास के किसी भी खिलाड़ी को उठा लो, आतिशी बल्लेबाजी के मामले में सूर्य कुमार यादव हर किसी पर भारी है। काश 2011 में जब सूर्या ने डोमेस्टिक सर्किट में धमाल मचाना शुरू किया था, उसी वक्त सूर्यकुमार यादव को इंडियन टीम में चुन लिया जाता। तो सूर्या आज क्रिकेट के कई रिकॉर्ड अपने नाम कर पाता।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें

TeamDigital