लालू बोले ‘आरोप बेबुनियाद निकले तो अपनी बात से कन्नी काट रहे हैं मोदी’

पटना। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद प्रमुख लालू प्रसाद ने चिड़ियाघर को मिटटी बेचने के आरोप पर आज दो टूंक शब्दों में कहा है कि बीजेपी नेता सुशील मोदी के सारे आरोप बेबुनियाद निकले तो अब वे चिड़ियाखाना को मिट्टी बेचने की बात से कन्नी कटाने लगे। लालू ने कहा कि मॉल की सच्चाई भी सामने आने पर उनकी बोलती बंद हो जाएगी।

अपने आवास पर रविवार को प्रेस से बातचीत में लालू ने कहा कि सच्चाई तो नौ साल पहले 2008 में ही सामने आ चुकी थी। तब भी लोगों ने मामले को उठाया और उनको मुंह की खानी पड़ी थी। उन्होंने कहा कि आय से अधिक संपत्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट तक से क्लीनचिट मिली है।

लालू ने विधानसभा चुनाव में दिए गए शपथपत्र का हवाला देते हुए कहा कि उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव और स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव ने संपत्ति का ब्योरा सार्वजनिक किया है। मुख्यमंत्री को ब्योरा दिया गया है और चुनाव आयोग को भी। मोदी को शक है तो एफीडेविट के शेयर कॉलम में देखें। सभी कंपनियों के शेयर मिल जाएंगे।

उन्होंने कहा कि जहां तक मॉल की जमीन के बदले में कोचर भाइयों को रांची और पुरी में रेल यात्री निवास देने का आरोप है तो बता दें कि आवंटन के 22 महीने पहले ही मॉल की जमीन की खरीद डिलाइट मार्केटिंग ने की थी। यात्री निवास का आवंटन तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा गठित आईआरसीटीसी ने खुली निविदा से किया था। उच्चतम बोली लगाने वाले को टेंडर मिला।

ये भी पढ़ें:  अडाणी संकट: आरबीआई ने बैंकों से मांगा ब्योरा, विपक्ष चाहता है CJI की निगरानी में जांच

उन्होंने कहा कि कोलकाता और दिल्ली में भी यात्री निवास मेघालय होटल और टाटा समूह को दिये गये। इसमें रेल मंत्री का कोई हस्तक्षेप नहीं होता। अगर मेरे द्वारा इसका आवंटन किया गया तो मोदी फाइल दिखाएं।

लालू ने कहा कि डिलाइट मार्केटिंग ने जमीन सिलिंग एक्ट के तहत अनुमति लेकर खरीदी थी। सर्किल रेट और जमीन की कीमत का भुगतान चेक से किया गया। बूम आया तो रीयल स्टेट की कीमत बेतहाशा बढ़ी। उस जमीन की कीमत भी बढ़ी। उसी जमीन पर मेरिडीयन कंस्ट्रक्शन ने मॉल बनाना शुरू किया है। इसमें पूरा पैसा निर्माण कंपनी का लगेगा।

उन्होंने कहा कि 2014 में पूर्व सीएम राबड़ी देवी ने डिलाइट मार्केटिंग के शेयर खरीदे थे। सौ रुपये के फेस वैल्यू वाले शेयर की खरीद कई गुना अधिक दाम पर की। हमारी बेटी चन्दा और रागिनी के शेयर होल्डर होने की बात तो पूरी तरह गलत है। अलबत्ता राबड़ीजी ने दोनों बेटों को शेयर गिफ्ट जरूर किया था।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें

TeamDigital