सऊदी अरब में दो महिला एक्टिविस्ट समर बदावी और नसीमा अल-सदा जेल से रिहा

नई दिल्ली(इंटरनेशनल डेस्क)। सऊदी अरब सरकार ने जेल में बंद दो महिला एक्टिविस्ट को रिहा कर दिया है। समर बदावी और नसीमा अल-सदा नामक महिला एक्टिविस्टों को पुरुष संरक्षकता कानूनों का विरोध करने पर गिरफ्तार किया गया था।

दोनों महिलाओं को पांच साल के कारावास की सजा सुनाई गई थी, जिनमें से दो साल की सजा निलंबित कर दी गई है। मानवाधिकार समूहों ने बताया कि दोनों महिलाओं को सशर्त रिहा किया गया है और वे पांच साल तक विदेश यात्रा नहीं कर सकतीं।

उन्होंने कहा कि जेल से रिहा की गई अन्य सऊदी महिला अधिकार कार्यकर्ताओं की तरह इन दोनों महिलाओं को भी मीडिया से बात करने और अपने मामले को लेकर कुछ भी ऑनलाइन पोस्ट करने पर प्रतिबंध का सामना करना पड़ सकता है।

क्या है मामला:

दोनों महिलाओं ने सऊदी अरब में लागू किये गए पुरुष संरक्षकता कानून के खिलाफ आवाज़ उठाई थी। पुरुष संरक्षकता कानूनों ने महिलाओं के पतियों, पिताओं और कुछ मामलों में उनके बेटों को अधिकार दिया था कि वे महिलाओं को पासपोर्ट हासिल करने और यात्रा करने के संबंध में नियंत्रित कर सकते थे. उन्होंने महिलाओं को गाड़ी चलाने का अधिकार दिए जाने की भी वकालत की थी। ये दोनों प्रतिबंध हटा दिए गए हैं।

ये भी पढ़ें:  Live: राजस्थान में 92 कांग्रेस विधायकों ने स्पीकर को इस्तीफे सौंपे

आरोप है कि करीब तीन साल पहले क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने अधिक स्वतंत्रता दिए जाने की शांतिपूर्ण रूप से वकालत करने वाली महिला कार्यकर्ताओं के खिलाफ व्यापक कार्रवाई की थी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें