मुस्लिम रिक्शा चालक की पिटाई के तार विश्व हिन्दू परिषद से जुड़े, तीन गिरफ्तार

कानपुर। कानपुर के बर्रा इलाके में कच्ची बस्ती में बुधवार को एक मुस्लिम रिक्शा चालक की पिटाई और जबरन जय श्री राम के नारे लगवाने की घटना के तार विश्व हिन्दू परिषद से जुड़े मिले हैं। इस घटना में तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार तीनो आरोपियों में प्रमुख आरोपी विश्व हिन्दू परिषद से जुड़ा है।

गिरफ्तारी के बाद विहिप से जुड़े कुछ लोगों ने गुरूवार की रात डीसीपी दफ्तर के बाहर धरना भी दिया था। पुलिस द्वारा समझाए जाने के बाद इन लोगों ने अपना धरना समाप्त किया।

कानपुर के पुलिस आयुक्त असीम अरुण ने बताया कि गुरुवार रात को तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस के अनुसार गिरफ्तार लोगों में से एक अमन गुप्ता विश्व हिंदू परिषद से जुड़ा है। पुलिस के अनुसार गुप्ता के अलावा राजेश उर्फ जय और राहुल को गिरफ्तार किया गया है। आरोपियों की उम्र 25 से 30 वर्ष के बीच है और वे बर्रा इलाके के निवासी हैं।

उन्होंने बताया कि पीडित को पुलिस ने बचाया और वो उसे पुलिस थाने लेकर आई। वीडियो में पिटाई करते दिख रहे लोगों के खिलाफ पीड़ित की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया है।

ये भी पढ़ें:  Live: राजस्थान में कांग्रेस विधायक दल की बैठक निरस्त

कानपुर की पुलिस उपाधीक्षक (दक्षिणी) रवीना त्यागी ने पीटीआई भाषा से कहा, कि वायरल वीडियो जैसे ही हमारी जानकारी में आया इसका संज्ञान लेते हुए हमने भारतीय दंड सहिता की प्रसंगिक धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। उन्होंने कहा कि दोषियों की पहचान और गिरफ्तारी के लिए कई टीमें गठित की गई हैं।

गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर वायरल इस घटना के एक मिनट के वीडियो में 45 वर्षीय असरार अहमद को कुछ व्यक्तियों द्वारा पीटते और उससे ‘जय श्री राम’ का नारा लगवाते हुए देखा जा सकता है। वीडियो में अहमद की बेटी अपने पिता को बचाने का प्रयास करते हुए और रोते हुए हमलावरों से पिता को नहीं पीटने की गुहार लगाते हुए दिख रही है।

उत्तर प्रदेश के एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर) प्रशांत कुमार ने बताया कि मामला दर्ज कर तीन को गिरफ्तार कर लिया गया है। यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो, यदि कोई व्यक्ति/शत्रुतापूर्ण तत्व किसी दूसरे व्यक्ति पर अपने धर्म के लिए हमला करता है तो इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जरूरत पड़ने पर हम और लोगों को गिरफ्तार करेंगे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें