Mumbai : चंडीगढ़ के बाद IIT Bombay में MMS कांड

चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी एमएमएस कांड के बाद अब आईआईटी बॉम्बे में एक कैंटीन कर्मचारी को वीडियो रिकॉर्ड करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है

Mumbai MMS Row : चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी एमएमएस लीक कांड के बाद अब आईआईटी बॉम्बे (IIT Bombay) में भी एक ऐसी साजिश नाकाम हुई है. दरअसल, आईआईटी बॉम्बे में एक कैंटीन कर्मचारी को वीडियो रिकॉर्ड करने के आरोप में मंगलवार को गिरफ्तार किया गया है. बताया गया कि छात्रा शौचालय में गई थी, तभी वीडियो रिकॉर्ड करने की कोशिश की गई है.
हॉस्टल के वॉशरूम में झांक रहा था कैंटीन कर्मी

आईआईटी बॉम्बे कैंटीन के कर्मचारी को महिला वॉशरुम में झांकने के मामले पर डीसीपी महेश्वर रेड्डी, मुंबई ने कहा कि रविवार की शाम कैंटीन में काम करने वाला एक कर्मी हॉस्टल के वॉशरूम में झांक रहा था, तभी उसे एक युवती ने देखा और इसकी शिकायत की. पुलिस अधिकारी ने बताया कि कर्मी को हिरासत में लिया गया है.

Mumbai | A labour working in canteen of IIT Mumbai campus in Powai was peeping into the women’s hostel on Sunday night. He was caught by a woman & was arrested. He’ll be produced in court tomorrow. We recovered his mobile & didn’t get any video as such: Maheshwar Reddy, DCP pic.twitter.com/IFQhqGWxjA
— ANI (@ANI) September 20, 2022

ये भी पढ़ें:  अख़बारों से लुप्त होता साहित्य

कल अदालत में किया जाएगा पेश

डीसीपी महेश्वरी रेड्डी ने बताा कि हिरासत में लेने के साथ ही आरोपी कैंटीन कर्मचारी को कल यानि 21 सितंबर को उसे अदालत में पेश किया जाएगा. उन्होंने बताया कि उसका मोबाइल फोन जब्त कर लिया गया है. फिलहाल मोबाइल में कोई आपत्तिजनक क्लीप नहीं पाई गई है.
साइबर टीम भी मामले की करेगी पड़ताल

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इंस्टीट्यूट के एक छात्र ने गर्ल्स हॉस्टल के बाथरूम की खिड़की के बाहर एक मोबाइल फोन देखा. इसके बाद उसने छात्रावास के अधिकारियों को अलर्ट कर दिया. आईआईटी बॉम्बे के सुरक्षा कर्मचारियों ने उस व्यक्ति को ढूंढ निकाला और उसे पुलिस को सौंप दिया. गिरफ्तार शख्स आईआईडी बॉम्बे की कैंटीन में काम करता है. आईआईटी बॉम्बे ने भी एक बयान जारी कर दावा किया कि हॉस्टल कैंटीन के एक कर्मचारी ने गर्ल्स हॉस्टल की महिलाओं के वॉशरूम में तांकझांक की कोशिश की थी. आईआईटी बॉम्बे ने कहा है कि पुलिस के साथ-साथ साइबर टीम भी इस केस की पड़ताल करेगी

 

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें