गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टैनी रहेंगे या जायेंगे? अगले 24 घंटे महत्वपूर्ण

नई दिल्ली। लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा के पिता और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टैनी ने आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से उनके आवास पर मुलाकात की।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में चार किसानों को कथित तौर पर कुचलने के लिए बेटे के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज होने के बाद से मिश्रा की गृह मंत्री से यह पहली मुलाकात है।

गौरतलब है कि पुलिस ने रविवार की घटना में किसानों की मौत को लेकर अजय कुमार मिश्रा के पुत्र आशीष मिश्रा और सात अन्य के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है।

माना जा रहा है कि लखीमपुर खीरी में किसानो को गाडी से रौंदने की घटना में बेटे का नाम आने के बाद अजय मिश्रा पर अपने पद इस्तीफा देने के लिए दबाव बढ़ गया है। सूत्रों की माने तो कभी भी उनसे इस्तीफा देने के लिए कहा जा सकता है।

सूत्रों ने कहा कि लखीमपुर खीरी हिंसा में किरकिरी होने के बाद यूपी में बीजेपी अब डेमेज कंट्रोल में जुट गई है, इसके तहत गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का इस्तीफा लिया जा सकता है। सूत्रों ने कहा कि अगले 24 घंटे बेहद महत्वपूर्ण हैं।

ये भी पढ़ें:  गोपालगंज : थावे मंदिर में प्रवेश द्वार पर मची अफरा-तफरी, बेकाबू हुई भीड़, कई श्रद्धालु हुए जख्मी

यूपी में अगले वर्ष विधानसभा चुनाव संपन्न होने हैं, ऐसे में फूंक फूंक कर कदम रख रही बीजेपी लखीमपुर खीरी मामले में हुई डेमेज की भरपाई की कोशिश में जुट गई है।

हालांकि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा ने किसान संगठनों के उन आरोपों से इनकार किया कि उनका बेटा एक कार में बैठा हुआ था। उन्होंने कहा कि उनके पास यह दिखाने के लिए सबूत है कि उनका बेटा कहीं और हो रहे किसी कार्यक्रम में गया हुआ था।

मिश्रा का कहना है कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं को लेकर जा रही एक गाड़ी तब पलट गयी जब प्रदर्शनकारियों ने उस पर पथराव किया। किसान उस गाड़ी के नीचे आ गए और उनकी मौत हो गयी। प्रदर्शनकारियों ने कार में सवार चार लोगों को बाहर निकाला और पीट-पीटकर उनकी हत्या कर दी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें