मद्रास हाईकोर्ट की EC पर कड़ी टिप्पणी, चुनाव आयोग पर मर्डर चार्ज लगाना भी गलत नहीं होगा

चेन्नई। कोरोना महामारी के बीच पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव कराये जाने के तरीके को लेकर चुनाव आयोग की जमकर आलोचना हो रही है। कोरोना की दूसरी लहर के बीच पश्चिम बंगाल में रैलियों और रोड शो की अनुमति के लिए सीधे तौर पर चुनाव आयोग को ज़िम्मेदार ठहराया जा रहा है।

अब मद्रास हाईकोर्ट ने चुनाव आयोग को लेकर कड़ी और गंभीर टिप्पणी की है। सोमवार को मद्रास हाईकोर्ट ने कोरोना के बढ़ते मामलो पर सुनवाई के दौरान कड़ी टिप्पणी करते हुए कोरोना की दूसरी लहर के लिए चुनाव आयोग को ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा कि ऐसा इसलिए क्योंकि चुनाव आयोग ने कोरोना संकट के बाद भी चुनावी रैलियों को नहीं रोकने का काम किया था।

मद्रास हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एस. बनर्जी ने सुनवाई के दौरान सख्त टिप्पणी की और कहा कि चुनाव आयोग ही कोरोना की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार है। चुनाव आयोग के अधिकारियों पर यदि मर्डर चार्ज लगा दिया जाए तो कहीं से भी गलत नहीं होगा।

मद्रास हाईकोर्ट की यह टिप्पणी चुनाव आयोग के उस जबाव के बाद आई है, जिसमे आयोग ने अदालत से कहा कि चुनाव के दौरान कोरोना गाइडलाइन का पालन किया गया। चुनाव आयोग के जवाब से कोर्ट और नाराज हो गया। अदालत ने पूछा कि जब प्रचार हो रहा था, तब क्या चुनाव आयोग दूसरे ग्रह का चक्कर काट रहा था?

ये भी पढ़ें:  2024 में भाजपा को उखाड़ फेंकेगे, नीतीश के साथ सोनिया से मिलने दिल्ली जाऊंगा: लालू

मतगणना पर लग सकती है रोक:

मद्रास हाईकोर्ट ने कड़ा रुख दिखाते हुए कहा कि यदि मतगणना के दिन दो मई को कोरोना संक्रमण से जुड़ी गाइडलाइन्स का पालन नहीं हुआ। उसका ब्लूप्रिंट नहीं तैयार किया गया, तो मतगणना पर प्रभाव पडेगा। मतगणना पर रोक लगाने का काम किया जाएगा।

इतना ही नहीं मद्रास हाईकोर्ट ने अब चुनाव आयोग को निर्देश दिया है कि चुनाव आयोग हेल्थ सेक्रेटरी के साथ मिलकर मतगणना के लिए प्लान तैयार करे।हाईकोर्ट ने 30 अप्रैल तक पूरा ब्लूप्रिंट बनाकर चुनाव आयोग को लाने को कहा है।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के बीच देश में पांच राज्यों असम, पुडुचेरी, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और केरल में विधानसभा चुनाव के दौरान राजनीतिक दलों द्वारा रैलियां और रोड शो आयोजित किये गए। इनमे सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क की अनिवार्यता जैसी कोविड गाइडलाइन की जमकर धज्जियां उड़ीं। जब देश में प्रतिदिन दो लाख से अधिक कोरोना के नए मामले सामने आ रहे थे तब भी पश्चिम बंगाल में चुनावी रैलियां और रोड शो जारी रहे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें