देश के 12 राजनीतिक दलों के नेताओं ने पीएम मोदी को चिट्ठी लिखकर की ये मांग

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बीच देश के 12 प्रमुख राजनीतिक दलों के नेताओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है। पत्र में पीएम मोदी को 9 सुझाव दिए गए हैं। इनमे मुफ्त टीकाकरण और सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट रोकने का सुझाव भी शामिल है।

इस पत्र में सोनिया गांधी ( कांग्रेस), एचडी देवगौड़ा (जेडी-एस), शरद पवार (एनसीपी), उद्धव ठाकरे (शिवसेना), ममता बनर्जी (टीएमसी), एमके स्टालिन (डीएमके), हेमंत सोरेन (जेएमएम), अखिलेश यादव (सपा), फारूक अब्दुल्ला (जेकेपीए), तेजस्वी यादव (आरजेडी), डी राजा (सीपीआई) और सीताराम येचुरी (सीपीआई-एम) ने हस्ताक्षर किए हैं।

विपक्षी दलों के नेताओं ने पीएम नरेंद्र मोदी को लिखे इस पत्र में दिए अपने सुझाव में कहा है कि घरेलू स्तर पर वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाया जाए तथा घरेलू वैक्सीन के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए अनिवार्य लाइसेंस की व्यवस्था को खत्म करने को कहा गया है।

पत्र में विपक्षी दलों ने कहा है कि कोरोना के इस संकट में कई राज्यों में लॉक डाउन को ध्यान में रखकर सभी जरूरतमंदों को अनाज दिया जाए ताकि कोई भूखा न रह जाए। इतना ही नहीं पत्र में वैक्सीन के लिए बजट में आवंटित 35 हजार करोड़ का इस्तेमाल करने का सुझाव दिया गया है तथा कहा गया है कि केंद्र सरकार बजट में आवंटित 35,000 करोड़ का इस्तेमाल केंद्र सरकार वैक्सीन निर्माण के लिए करे।

ये भी पढ़ें:  नयी दिल्ली : कारोबार सुगमता को बढ़ावा देने को कानून पर काम जारी, शीतकालीन सत्र में आ सकता है विधेयक : गोयल

पत्र में विपक्षी दलों के नेताओं ने कहा कि सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट के लिए आवंटित पैसों को ऑक्सीजन और वैक्सीन की खरीद के लिए खर्च करने की जरूरत है। इसलिए सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट को तुरंत रोका जाना चाहिए।

पत्र में विपक्षी दलों ने कृषि कानूनों को जल्द से जल्द निरस्त करने की मांग भी की है और कहा है कि केंद्र सरकार तीनो कृषि कानूनों को रद्द करे ताकि लाखों किसानों को महामारी की चपेट में आने से बचाया जा सके।

कोरोना महामारी के दौरान बेरोज़गार हुए लोगों का हवाला देते हुए पत्र में कहा गया है कि सभी बेरोजगारों के लिए 6 हजार रुपये प्रति महीने दिए जाएं ताकि इस महामारी में वे अपना जीवन यापन कर सकें।

वहीँ देश में चल रहे टीकाकरण को लेकर पत्र में सुझाव दिया गया है कि देशभर में तुरंत एक नि:शुल्क यूनिवर्सल वैक्सीनेशन अभियान भी केन्द्र सरकार की तरफ से शुरू किया जाए ताकि देश के सभी योग्य नागरिकों को मुफ्त में वैक्सीन लग सके।

12 राजनीतिक दलों के नेताओं ने पत्र में साफतौर पर कहा कि पीएम केयर जैसे फंड और सभी प्राइवेट फंड में जमा पैसे का उपयोग ऑक्सीजन और मेडिकल उपकरण खरीदने के लिए किया जाए।  जिससे देश की स्वास्थ्य सेवाओं को जल्द बेहतर बनाया जा सके।

ये भी पढ़ें:  अब मुख़्तार अंसारी को एक और मामले में 5 साल की सजा का एलान

देश के प्रमुख 12 दलों के नेताओं द्वारा पीएम मोदी को लिखे गए इस पत्र पर अभी भारतीय जनता पार्टी की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। देखना है कि इस पत्र पर बीजेपी का रुख क्या रहंता है। क्यों कि कांग्रेस नेताओं द्वारा सरकार को लगातार दी जा रही सलाह बीजेपी को रास नहीं आ रही और अभी हाल ही में बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को पत्र लिखकर कांग्रेस पर उलटे आरोप जड़ दिए थे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें