सियासी सस्पेंस के बीच राज्यपाल और विधानसभा अध्यक्ष से मिले यूपी के बीजेपी प्रभारी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी में जारी सियासी सस्पेंस के बीच आज भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रभारी राधामोहन सिंह ने प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और विधानसभा अध्यक्ष हृदयनारायण दीक्षित से मुलाकात की।

प्रदेश बीजेपी प्रभारी राधामोहन सिंह की इन मुलाकातों के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। गौरतलब है कि इससे पहले राधा मोहन सिंह पार्टी के अन्य नेताओं और सरकार में शामिल मंत्रियों से भी मुलाकात कर चुके हैं।

राधामोहन ने शनिवार रात पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह व महामंत्री संगठन सुनील बंसल के साथ बैठक की थी। हालांकि आज राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मुलाकात से पहले राधामोहन सिंह ने पत्रकारों से कहा कि यूपी सरकार व संगठन इस समय अच्छा काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि राज्यपाल पुरानी परिचित हैं और आज तक मिल नहीं पाया था। आज उसी औपचारिकता को लेकर मिलने जा रहा हूं। संगठन और सरकार अच्छी तरह चल रहे हैं। कुछ सीटें खाली हैं तो उचित समय पर मुख्यमंत्री निर्णय लेंगे।

प्रदेश अध्यक्ष के बयान से पैदा हुई आशंका:

ये भी पढ़ें:  एयर एशिया दे रही मुफ्त में दुनिया घूमने का मौका, पढ़िए- कैसे उठायें इस ऑफर का फायदा

इस बीच प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने नया बयान देकर और संदेह पैदा कर दिया है। उन्होंने कहा कि प्रदेश को योगी आदित्यनाथ जैसा मुख्यमंत्री नहीं मिल सकता। कोई भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जैसा परिश्रमी और ईमानदार नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि अपने कार्यकाल में सीएम योगी ने कानून का राज स्थापित किया है।

मंत्रिमंडल का विस्तार या नेतृत्व परिवर्तन:

प्रदेश बीजेपी प्रभारी राधामोहन सिंह की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और विधानसभा अध्यक्ष से मुलाकात के बाद अब कयास लगाए जा रहे हैं कि राज्य में या तो मंत्रिमंडल विस्तार होना है या नेतृत्व परिवर्तन होना है। वहीँ प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह का मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के समर्थन में असमय आया बयान कई संदेहो को जन्म देता है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें