कर्नाटक बीजेपी में उठापटक: येदुरप्पा बोले ‘कुर्सी छोड़ने को तैयार’

बेंगलुरु। कर्नाटक बीजेपी में चल रहे असंतोष के बीच आज मुख्यमंत्री बीएस येदुरप्पा ने चौकाने वाला बयान दिया है। येदुरप्पा ने कहा कि वे मुख्यमंत्री की कुर्सी छोड़ने के लिए तैयार हैं।

येदुरप्पा ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वह अपना पद त्यागने और अन्य के लिए सत्ता संभालने का मार्ग प्रशस्त करने के लिए तैयार हैं। हालांकि येदुरप्पा ने बॉल हाईकमान के पाले में डालते हुए कहा कि पार्टी के शीर्ष नेतृत्व की इच्छा हो तो मैं अपने पद से इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं।

रविवार को संवाददाताओं से बात करते हुए मुख्यमंत्री येदुरप्पा ने इस बात से इंकार किया कि उनके लिए कोई विकल्प नहीं है। उन्होंने कहा कि पार्टी के केंद्रीय नेताओं ने उन्हें राज्य में विभिन्न जिम्मेदारियों को निभाने का पर्याप्त अवसर दिया है।

इतना ही नहीं येदुरप्पा ने राज्य सरकार के कामकाज पर सवाल उठाने वाले बीजेपी नेताओं का नाम लिए बिना कहा कि मैं चाहता हूं कि पार्टी का शीर्ष नेतृत्व इस तरह के कृत्यों को समाप्त करने के लिए कदम उठायेगा।

वहीँ येदुरप्पा के कुर्सी छोड़ने वाले बयान पर उप मुख्यमंत्री डॉ सीएन अश्वथनारायण और राजस्व मंत्री आर अशोक ने कहा है कि पद छोड़ने का सवाल ही नहीं उठता है। बीएस येदियुरप्पा हमारे मुख्यमंत्री बने रहेंगे।

ये भी पढ़ें:  Rajasthan Politics : अशोक गहलोत अपने पद से आज इस्तीफा दे सकते है , जानिए कौन होगा अगला सीएम?

गौरतलब है कि कर्नाटक में कांग्रेस की सरकार गिराकर मुख्यमंत्री बने येदुरप्पा के काम करने के तरीके को लेकर राज्य बीजेपी के ही कुछ नेता सवाल उठा चुके हैं।

इतना ही नहीं मुख्यमंत्री येदुरप्पा के बेटे पर मंत्रियों के कामकाज में दखल देने के आरोप भी लगते रहे हैं। अभी है ही में बीजेपी विधायक बासवनगौड़ा पाटिल यतनाल ने येदुरप्पा सरकार के कामकाज पर नाराज़गी जताते हुए मुख्यमंत्री येदुरप्पा को अपना इस्तीफा देने की सलाह दी थी।

गौरतलब है कि कर्नाटक में 2023 में विधानसभा चुनाव होने हैं। राज्य बीजेपी में बी एस येदुरप्पा को लेकर अभी से ही दो गुट बन गए हैं। बीजेपी विधायकों का एक गुट मुख्यमंत्री येदुरप्पा के कामकाज से खुश नहीं है। विधायकों का आरोप है कि उनके क्षेत्र की योजनाएं अधूरी पड़ी हैं और उनकी सुनवाई नहीं हो रही।

नाराज़ बीजेपी विधायकों का यह भी कहना है कि प्रदेश में सिर्फ सीएम येदुरप्पा के करीबी विधायकों के ही काम हो रहे हैं अन्य विधायकों के कामो को सरकार तरजीह नहीं दे रही।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें