देश में ऑक्सीजन की कमी पर सुप्रीमकोर्ट ने केंद्र से किया जबाव तलब

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के बीच देश के कई राज्यों में ऑक्सीजन और दवा की किल्ल्त को लेकर सुप्रीमकोर्ट ने स्वतः संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार से जबाव तलब किया है। सीजेआई एसए बोबडे का कहना है कि अदालत इस मामले की सुनवाई कल करेगी।

देश के कई राज्यों में ऑक्सीजन और आवश्यक दवाओं की किल्ल्त को लेकर सुप्रीमकोर्ट ने सरकार से पूछा कि ऑक्सीजन और ज़रूरी दवाओं की कमी को पूरा करने के लिए क्या कदम उठा रही है।

इतना ही नहीं, सीजेआई एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की तीन-न्यायाधीशों की पीठ ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता को एक राष्ट्रीय योजना प्रदान करके इसे प्रस्तुत करने या सूचित करने के लिए कहा है।

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने आज सुप्रीम कोर्ट के सामने उल्लेख किया कि देश को ऑक्सीजन की सख्त जरूरत है। वेदांता अपने संयंत्र को चालू करना चाहता है, लेकिन उन्हें इसे केवल स्वास्थ्य उद्देश्यों के लिए ऑक्सीजन बनाने के लिए चालू करने की अनुमति है, उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष भी इसे प्रस्तुत किया है।

सुनवाई के दौरान अदालत ने कहा है, इस तथ्य को रिकॉर्ड करने के बाद कि कम से कम 6 विभिन्न उच्च न्यायालय इस मामले की सुनवाई कर रहे हैं नेशनल प्लान प्रस्तुत करें । इस मामले में अदालत कल भी सुनवाई जारी रखेगी।

ये भी पढ़ें:  बैंकॉक : प्रयुथ थाईलैंड के प्रधानमंत्री बने रह सकते हैं, लेकिन कार्यकाल सीमा का उल्लंघन नहीं कर सकते : अदालत

गौरतलब है कि देश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलो के बीच कई राज्यों में ऑक्सीजन की किल्ल्त का मामला सामने आया है। राज्यों का आरोप है कि उन्हें पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं उपलब्ध कराई जा रही।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें