CWC की बैठक में सोनिया ने कहा, ‘अगर पार्टी को लगता है तो हम तीनों इस्तीफ़ा देने के लिए तैयार’

CWC की बैठक में सोनिया ने कहा, ‘अगर पार्टी को लगता है तो हम तीनों इस्तीफ़ा देने के लिए तैयार’

नई दिल्ली। कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी की अध्यक्षता में संपन्न हुई कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में पार्टी की हार सहित कई अहम मुद्दों पर गहन विचार विमर्श हुआ।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और तीन अन्य कांग्रेस नेता पार्टी की कार्यसमिति की बैठक में शामिल नहीं हुए, जिन्हें हाल के विधानसभा चुनावों में पार्टी की हार पर चर्चा करने के लिए आज बुलाया गया था। पूर्व रक्षा मंत्री और कांग्रेस नेता एके एंटनी भी बैठक में शामिल नहीं हुए क्योंकि वो कोरोना पॉजिटिव हैं।

कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद राज्य सभा में विपक्ष के नेता और वरिष्ठ कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी कांग्रेस का नेतृत्व करेंगी और भविष्य में भी वही निर्णय लेंगी। हम सभी को उनके नेतृत्व पर भरोसा है।

वहीँ सूत्रों के मुताबिक, कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अपने भाषण में कहा कि अगर पार्टी को लगता है तो हम तीनों (सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा) इस्तीफ़ा देने के लिए तैयार हैं, लेकिन कार्यसमिति ने सर्वसम्मति से इसे खारिज कर दिया।

इसकी पुष्टि करते हुए कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से कहा कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि वह अपने परिवार के सदस्यों के साथ राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा पार्टी के लिए अपने पदों का त्याग करने के लिए तैयार हैं, लेकिन हम सभी ने इसे खारिज कर दिया।

ये भी पढ़ें:  अडाणी संकट: आरबीआई ने बैंकों से मांगा ब्योरा, विपक्ष चाहता है CJI की निगरानी में जांच

कार्यसमिति की बैठक के बाद कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि CWC ने ये भी निर्णय लिया है कि संसद के इस सत्र के तुरंत बाद एक व्यापक चिंतन शिविर बुलाया जाएगा, जहां भविष्य की रणनीति पर व्यापक चर्चा होगी और रोडमैप निर्धारित होगा। इसके लिए इसी माह में CWC की एक और बैठक बुलाई जाएगी।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने सर्वसम्मति से श्रीमती सोनिया गांधी जी के नेतृत्व में अपने विश्वास की पुनः पुष्टि की और कांग्रेस अध्यक्षा से अनुरोध किया कि वो आगे बढ़ पार्टी का नेतृत्व और मजबूती से करें और आवश्यक एवं व्यापक बदलाव करें।

सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस पार्टी 2022 और 2023 के आगामी विधानसभा चुनाव और 2024 के लोकसभा और विधानसभा चुनाव की चुनौतियों से मुस्तैदी से निपटने के लिए तत्परता से हर तैयारी करेगी।

सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस पार्टी अपने कार्यकर्ताओं और भारत के लोगों को आश्वस्त करती है कि वह विधानसभा चुनाव के इस जनमत को विनम्रता से स्वीकार करते हुए एक सतर्क और जीवंत विपक्ष की भूमिका निभाएगी।

कांग्रेस कार्यसमिति का वक्तव्य:

सुरजेवाला ने कहा कि CWC लाखों कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं के प्रति आभार व्यक्त करती है, जिन्होंने इन 5 राज्यों के चुनाव में पार्टी और उम्मीदवारों के लिए अथक परिश्रम किया।

ये भी पढ़ें:  ममता बनर्जी ने केंद्रीय बजट को गैर-भविष्यवादी, अवसरवादी बताया

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी देश में आज व्याप्त राजनीतिक निरंकुशता के खिलाफ करोड़ों भारतीयों की आशाओं का प्रतिनिधित्व करती है और अपनी इस जिम्मेदारी के प्रति पूरी तरह से सजग और जागरूक है।

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणाम कांग्रेस के लिए गम्भीर चिंतन का विषय है। पार्टी का ये मानना है कि अपनी रणनीति में खामियों के चलते हम जहां 4 राज्यों में भाजपा सरकारों के कुशासन को प्रभावी ढंग से उजागर नहीं कर पाए वहीं पंजाब में नेतृत्व बदलाव के बाद मिले सीमित समय में सत्ता विरोधी लहर पर काबू नहीं पाया जा सका।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें

TeamDigital