महाराष्ट्र के राज्यपाल को राउत की चेतावनी: ठाकरे सरकार के पैर खींचने की कोशिश की तो…

दिल्ली। शिवसेना सांसद संजय राउत ने महाराष्ट्र के राज्यपाल को चेतावनी दी है कि वे महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार को हिलाने की कोशिश न करें। राउत ने कहा कि राजभवन सरकार की मदद के लिए होता है, पैर खींचने के लिए नहीं। पैर खींचने की कोशिश की तो आपके पैर ही धंसेंगे।

बुधवार को पत्रकारों से बात करते हुए संजय राउत ने कहा, ”राज्यपाल जनता द्वारा चुनी हुई सरकार को, जिसने संविधान के तहत शपथ ली है, राजनीतिक कारणों से अटकाने का प्रयास ना करें। वो चाहे विधानपरिषद के विधायकों का मुद्दा हो या एमपीएससी संबंधी नियुक्ति का मुद्दा हो। यह एक तरह से राजनीतिक दबाव लाने की कोशिश है।”

शिवसेना सांसद ने कहा कि राज्यपाल ऐसे विवादों में ना पड़ें. लेकिन ऐसा होता हुआ महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में लगातार दिखाई दे रहा है। उन्होंने कहा, ”राजभवन सरकार की मदद के लिए होता है। पैर खींचने के लिए नहीं. पैर खींचने की कोशिश की तो आपके ही पैर धंस जाएंगे।”

संजय राउत ने कहा कि राज्यपाल को किसने हस्तक्षेप करने के लिए कहा है, यह देखना पड़ेगा. जो काम मंत्रिमंडल का है, मुख्यमंत्री का है, उन कामों में घुसने की कोशिश हो रही है।

ये भी पढ़ें:  Russian School : स्कूल में छह लोगों को मारने के बाद अज्ञात ने खुद को मारी गोली

उन्होंने कहा, “नवाब मलिक ने जो राज्यपाल के संदर्भ में कहा, वो मैंने सुना है। यह संविधान विरोधी है। राज्यपाल को सरकार के कामों का जायजा लेने का आधिकार है। इसके लिए गांव स्तर पर दौरे करने की जरूरत नहीं है। अन्य राज्यों में भी बाढ़ आई है लेकिन भाजपाशासित अन्य राज्यों में राज्यपाल दौरे करते हुए दिखाई नहीं दे रहे। यह देखने के बाद समझ आता है कि महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल में ही ऐसा क्यों हो रहा है, या यहीं ऐसा करने को क्यों कहा जा रहा है।”

शिव सेना सांसद ने कहा कि राज्यपाल का काम सीमित स्वरूप का है। उन्हें कैबिनेट के सिफारिश से किए गए निर्णय का पालन करना चाहिए और सरकार के कामों में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए, ऐसा संविधान में लिखा है। वे इन नियमों का पालन करें, यही अच्छा होगा।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें