संजय राउत का बड़ा आरोप: सरकार ने राज्य सभा में लगाया मार्शल लॉ

नई दिल्ली। पेगासस जासूसी और किसानो के मुद्दे पर मानसून सत्र के दौरान संसद के दोनों सदनों में कार्यवाही बाधित रही। राज्य सभा में विपक्ष और सरकार के बीच लगातार रस्साकशी के बीच राज्य सभा की कार्यवाही को अनिश्चित काल के लिए स्थगित करना पड़ा है।

इस बीच शिवसेना सांसद संजय राउत ने सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है। राउत ने मोदी सरकार पर राज्य सभा में मार्शल लॉ लागू करने का आरोप लगाया है।

शिव सेना सांसद ने ट्वीट कर कहा कि ”क्या यही हमारा संसदीय लोकतंत्र है? लोकतंत्र के मंदिर में मार्शल कानून।” इतना ही नहीं संजय राउत ने अपने ट्वीट के साथ राज्य सभा की एक तस्वीर भी शेयर की है, जिसमे जिसमें मार्शल रास्ता रोकते हुए नजर आ रहे हैं।

संजय राउत द्वारा शेयर की गई राज्य सभा मार्शलो की तस्वीर बुधवार को उस समय की बताई जा रही है। जब विवादास्पद सामान्य बीमा व्यवसाय (राष्ट्रीयकरण) संशोधन विधेयक, 2021 को राज्यसभा में बीच पारित किया गया, जबकि विपक्ष विधेयक को एक प्रवर समिति को भेजने की मांग कर रहा था।

ये भी पढ़ें:  आरएसएस भी चरमपंथी संगठन, इस पर लगनी चाहिए थी पाबंदी: लालू

इस दौरान विपक्ष के हंगामे के बीच सीपीआई सांसद बिनॉय विश्वम ने रिपोर्टर की मेज पर चढ़ने की कोशिश की। इसके बाद सभापति बीजेडी सांसद सस्मित पात्रा ने तुरंत सदन को स्थगित कर दिया तथा राज्य सभा में मार्शलो को बुला लिया गया।

दरअसल, विपक्ष इस विधेयक को एक प्रवर समिति को भेजने की मांग कर रहा था। विपक्ष का कहना था कि इस कानून के व्यापक प्रभाव को समझने के लिए इसे एक प्रवर समिति के पास भेजा जाना चाहिए।

इसके बाद राज्य सभा में विपक्ष के हंगामे के बीच राज्य सभा की कार्यवाही को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया और करीब 50 सदस्यों वाली महिला और पुरुष मार्शलो की एक टीम अध्यक्ष के आसान के चारो तरफ एक मानव श्रंखला बनाकर खड़े हो गए।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें