हमारी संस्कृति शुरू से ही पर्यावरण प्रेमी रही है: उच्च शिक्षा मंत्री मोहन यादव

उज्जैन (विशाल जैन)। शनिवार को उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय के बॉटनी एवं पर्यावरण डिपार्टमेंट द्वारा आयोजित वेबीनार में शामिल हुए।

डा यादव ने वेबीनार में अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि हमारी भारतीय संस्कृति शुरू से ही पर्यावरण प्रेमी रही है । आज विश्व पर्यावरण दिवस है । हम सभी आज यह संकल्प लें कि अधिक से अधिक पौधे लगाएं। वृक्षारोपण से पर्यावरण शुद्ध होता है ।

उन्होंने कहा कि वृक्ष हमें ऑक्सीजन प्रदाय करते हैं। बीते दिनों कोरोना काल में ऑक्सीजन का क्या महत्व है इसका हम सबको भली-भांति एहसास हुआ है । इसीलिए अधिक से अधिक वृक्ष लगाएं।

मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डा यादव ने सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएं दी । साथ ही उन्होंने बताया कि बॉटनी डिपार्टमेंट में बीएससी ऑनर्स के दो नवीन पाठ्यक्रम शीघ्र ही प्रारंभ किए जाएंगे।

विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री ने विश्वविद्यालय में पौधारोपण किया:

उज्जैन(विशाल जैन)। शनिवार को उच्च शिक्षा मंत्री डा मोहन यादव ने विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय के बॉटनी और पर्यावरण डिपार्टमेंट के प्रांगण में पौधारोपण किया। डा यादव द्वारा प्रांगण में सिंदूर का पौधा रोपित किया गया।

ये भी पढ़ें:  PAYCM पोस्टर कैंपेन मामले में हिरासत में लिए गए कांग्रेस नेता

इस दौरान प्रोफेसर डीएम कुमावत, प्रोफेसर चित्रलेखा कड़ेल, डॉक्टर जगदीश शर्मा, प्रोफेसर शुभा जैन, डॉ मुकेश वाणी, डॉ पराग दलाल मौजूद थे। उच्च शिक्षा मंत्री ने सभी को विश्व पर्यावरण दिवस की शुभकामनाएं दी ।

विश्व पर्यावरण दिवस पर आनंद विभाग द्वारा संगीत और मंत्र से पर्यावरण शुद्धि हेतु ऑनलाइन संवाद:

उज्जैन(विशाल जैन)। राज्य आनंद संस्थान, उज्जैन आनंदक टीम द्वारा वर्चुअल मीटिंग के माध्यम से पर्यावरण पर संवाद कार्यक्रम आयोजित किया गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ नीति टंडन जी ने खूबसूरत प्रार्थना से किया। आनंदक इंजी. मुकेश शिंदे “संगीत से शुद्ध पर्यावरण” और आनंदक आचार्य श्री राघवकीर्ति ‘जय गणेश’ “मंत्र से शुद्ध पर्यावरण” पर अपनी बात कही।

इस विशेष कार्यक्रम में भोपाल से राज्य आनंद संस्थान के श्री प्रवीण गंगराड़े उपस्थित थे, उन्होने कहा कि उज्जैन आनंदक टीम बहुत अच्छा काम कर रही है तथा कोविड के भयानक त्रासदी वाले समय में भी उज्जैन टीम ने अलग अलग क्षेत्रों में उल्लेखनीय काम किए है। पर्यावरण में जैसे जल और पौधों के संरक्षण हेतु वे काम करते ही रहते हैं।

सक्रीय आनंदकों में प्रमुख रूप से, डॉ. विमल गर्ग, भोपाल से प्रदीप महतो, अधिवक्ता ममता बैंडवाल, दिलीप मालवीय, तूफ़ान सिंह, दिलीप निर्मल, श्रीमती प्रभा बैरागी, सावित्री महंत, श्रीमती सुकृति व्यास, बडनगर से श्रीराम जाट, खाचरोद से कमलेश, बड़ोदिया महिदपुर से देवी सिंह, श्रीमती अर्चना ज्ञानी, देवास से डॉ.अनार सिंह ठाकुर, ममता कटारिया, प्रीति धनक, रजनी नरवरिया, डॉ. सुमन जैन, विभा डाबरे, विद्या व्यास, विशाल द्विवेदी, श्रीमती जयश्री शर्मा, अदिति लोखंडे, मधु गुप्ता, आदि आनंदक उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें:  दिल्ली में दिन में हल्की बारिश के आसार

ऑनलाइन संचालन डॉ. प्रवीण जोशी, जिला संपर्क व्यक्ति उज्जैन ने किया। आभार, आनंद विभाग प्रभारी पी.एल. डाबरे ने व्यक्त किया।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें