कोरोना की दूसरी लहर के लिए पीएम ज़िम्मेदार, टूलकिट बीजेपी का अविष्कार: राहुल गांधी

नई दिल्ली। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज एक बार फिर पीएम नरेंद्र मोदी, केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी पर बड़ा हमला बोला है। राहुल गांधी ने देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के लिए सीधे तौर पर पीएम नरेंद्र मोदी को ज़िम्मेदार ठहराया है।

शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस में राहुल गांधी ने कहा कि सरकार और प्रधानमंत्री को आज तक कोरोना समझ ही नहीं आया है। कोरोना सिर्फ एक बीमारी नहीं है, कोरोना एक बदलती हुई बीमारी है। आप इसको जितना समय और जगह देंगे ये उतना खतरनाक बनता जाएगा।

उन्होंने कोरोना की दूसरी लहर के लिए सीधे तौर पर पीएम मोदी को ज़िम्मेदार बताते हुए कहा, “ये दूसरी वेव प्रधानमंत्री की ज़िम्मेदारी है, प्रधानमंत्री ने जो नौटंकी की, अपनी ज़िम्मेदारी पूरी नहीं की उसका कारण दूसरी वेव है। अगर वैक्सीनेशन इसी तरह से चलता गया तो मई 2024 में हिन्दुस्तान की पूरी जनता का वैक्सीनेशन होगा।”

उन्होंने कहा कि कोरोना से निपटने में प्रधानमंत्री ने गैर जिम्मेदाराना भूमिका निभाई है और वह कोरोना की पहली लहर से ही इसको लेकर कभी गंभीर ही नही हो पाए।

ये भी पढ़ें:  Himachal Election 2022 : सर्दी में भी नेताओं के छुट रहे 'पसीने'!

राहुल गांधी ने देश में वैक्सीनेशन की गति धीमी होने पर भी केंद्र सरकार पर सीधा हमला बोला। उन्होंने कहा, “अगर इस रेट पर वैक्सीनेशन चलता गया तो तीसरी, चौथी और पांचवी वेव आएगी। हमारी मृत्यु दर झूठ है और सरकार इस झूठ को फैला रही है। सरकार को समझना चाहिए कि विपक्ष उनका दुश्मन नहीं है, विपक्ष उनको रास्ता दिखा रहा है।”

कांग्रेस नेता ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री और सरकार को कोरोना का नेचर पता होता तो वो इसे रोकने के लिए हर प्रकार के तरीके अपनाते। लेकिन प्रधानमंत्री बंगाल में बिना मास्क भाषण दे रहे हैं और सामने लाखों लोग खड़े हैं। इसका क्या संदेश गया?

उन्होंने कहा कि अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देशों में बड़ी आबादी का टीकाकरण हो चुका है लेकिन हमारे यहां सिर्फ तीन प्रतिशत आबादी को ही अब तक टीका लग सका है जबकि भारत टीका उत्पादन करने वाला प्रमुख देश है।

राहुल गांधी ने कहा कि जो आपकी मदद करने का प्रयास कर रहे हैं, चाहे वो विपक्ष के लोग हों, अधिकारी हों या डीएम उनकी बात सुनिए। समय बर्बाद मत करो। पिछली बार की तरह मत सोचो कि हमने कोरोना को हरा दिया है।

इतना ही नहीं राहुल गांधी ने सलाह दी कि प्रधानमंत्री को एक ग्रुप बनाना चाहिए और रोज उसकी मीटिंग लेनी चाहिए। उसमें राज्यों और विशेषज्ञों के इनपुट आने चाहिए। रोज रणनीति का पालन होना चाहिए। लेकिन ऐसा कुछ नहीं हो रहा है

ये भी पढ़ें:  अंकिता भंडारी हत्याकांड : अंकिता के परिजनों ने अंतिम संस्कार से किया इनकार, कहा?

वहीं टूलकिट के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि टूलकिट की बात झूठ है, ये इनका(बीजेपी) आविष्कार है। मैंने मोविड लिखा था(ट्विटर पर) तब मेरा कहना था कि अगर मोदी जी के काम अलग होते तो सिर्फ कोविड होता लेकिन मोदी जी के कामों ने कोविड को बढ़ाया, उसे एक नया रूप दिया।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें