लखीमपुर खीरी कांड: प्रियंका गांधी हिरासत में, कांग्रेस का कई जगह प्रदर्शन

लखनऊ ब्यूरो। लखीमपुर खीरी की घटना के बाद पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही उत्तर प्रदेश कांग्रेस की प्रभारी महासचिव प्रियंका गांधी को प्रशासन ने कानून व्यवस्था का हवाला देते हुए पहले ही रोक लिया। इस दौरान प्रियंका गांधी और पुलिस अधिकारीयों के बीच नौकझौंक भी हुई। प्रियंका गांधी ने उन्हें रोके जाने का कारण पूछा।

पुलिस ने प्रियंका गांधी को हिरासत में ले लिए और उन्हें सीतापुर के सेकेंड बटालियन पीएसी के गेस्ट हाउस में रखा गया है। प्रियंका गांधी को हिरासत में लिए जाने की खबर मिलने के बाद युवक कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सीतापुर में गेस्ट हाउस के बाहर प्रदर्शन किया।

वहीँ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को हिरासत में लिए जाने के खिलाफ बेंगलुरू में केपीसीसी अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार, पार्टी नेता सिद्धारमैया और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने केपीसीसी कार्यालय से राजभवन तक निंदा में मार्च निकाला।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़के ने कहा कि BJP सरकार किसान विरोधी है, इनके पास सहनशक्ति नहीं है। हमने UPA के दौरान किसी को विरोध करने से नहीं रोका था। ये लोग लोकतंत्र को तानाशाही में बदलना चाहते हैं। योगी आदित्यनाथ UP के तानाशाह बन रहे हैं।

ये भी पढ़ें:  Breaking: राजस्थान में नाटक शुरू, गहलोत समर्थक विधायक स्पीकर के आवास पर पहुंचे

लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर कांग्रेस ने सोमवार को कई जगह प्रदर्शन किये। पश्चिम बंगाल के कोलकाता में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लखीमपुर खीरी की घटना के विरोध में मौलाली क्रॉसिंग पर प्रदर्शन किया। इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया और बाद में रिहा कर दिया।

लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर मुंबई में कांग्रेस ने गांधी प्रतिमा के सामने  विरोध प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन में कांग्रेस नेता सचिन पायलट, महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले और मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष भाई जगताप ने भी हिस्सा लिया।

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसक घटना को लेकर महिला कांग्रेस, अखिल भारतीय किसान सभा और अखिल भारतीय लोकतांत्रिक महिला संघ ने आज दिल्ली में यूपी भवन के बाहर विरोध प्रदर्शन किया।

अखिलेश को भी लखीमपुर खीरी जाने से रोका:

लखीमपुर खीरी जाने के लिए लखनऊ में अपने आवास से निकले समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने वहीँ रोक दिया। इसके विरोध में अखिलेश यादव अपने आवास पर ही धरने पर बैठ गए।

अखिलेश यादव ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि इतना जुल्म अंग्रेजों ने भी नहीं किया जितना भाजपा की सरकार किसानों पर कर रही है। गृह राज्य मंत्री को इस्तीफ़ा देना चाहिए और उपमुख्यमंत्री जिनका कार्यक्रम था उन्हें भी इस्तीफ़ा देना चाहिए। जिन किसानों की जान गई है उन्हें 2 करोड़ रुपये की मदद हो, परिवार की सरकारी नौकरी हो।

ये भी पढ़ें:  अंकिता भंडारी हत्याकांड : अंकिता के परिजनों ने अंतिम संस्कार से किया इनकार, कहा?

पंजाब और छत्तीसगढ़ के सीएम को हेलीकॉप्टर लैंड करने की अनुमति नहीं:

इस बीच पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लखीमपुर खीरी पहुँचने का एलान किया था। सूत्रों के मुताबिक, दोनों मुख्यमंत्रियों को उत्तर प्रदेश सरकार ने हेलीकॉप्टर लैंड करने की अनुमति देने से इंकार कर दिया है।

सूत्रों के मुताबिक, उत्तर प्रदेश सरकार ने पंजाब के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर राज्य से किसी को भी लखीमपुर खीरी नहीं जाने देने का अनुरोध किया। लखीमपुर खीरी में कल हिंसा में 8 लोगों की मौत के बाद सीआरपीसी की धारा 144 लागू की गई थी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें