संपत्तियों के मोनेटाइजेशन के खिलाफ देशभर में प्रेस कांफ्रेंस करेगी कांग्रेस

नई दिल्ली। केंद्र के राष्ट्रीय मुद्रीकरण पाइपलाइन कार्यक्रम के खिलाफ कांग्रेस देशभर में प्रेस कांफ्रेंस का आयोजन कर जनता को इसकी असलियत बताएगी। पार्टी का कहना है कि देश की मूल्यवान संपत्तियों को बेचा जाना भारतीय अर्थव्यवस्था के प्रभावी तरीके से प्रबंधन में केंद्र सरकार की सरासर अक्षमता को दर्शाता है।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने पूंजीवादी मित्रों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि इसका उद्देश्य पूंजीवादी मित्रों को लाभ पहुंचाना है।

सुरजेवाला ने कहा कि मोदी जी अपने दोस्तों के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध हैं और देश की संपत्ति अब सुरक्षित हाथों में नहीं है। उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि जीडीपी बढ़ोतरी में गिरावट के बीच बदहाल आम लोगों के जख्मों पर नमक छिड़कने के लिए प्रधानमंत्री उनकी जेब से मेहनत की कमाई निकाल रहे हैं और अपना खजाना भर रहे हैं।

सुरजेवाला ने कहा कि अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की छह लाख करोड़ रुपए की मूल्यवान संपत्ति बेचने का फैसला किया है जिसमें सड़क, रेल, खदान, दूरसंचार, बिजली, गैस, हवाई अड्डे, बंदरगाह, खेल स्टेडियम और कई चीजें शामिल हैं।

ये भी पढ़ें:  बैंकॉक : प्रयुथ थाईलैंड के प्रधानमंत्री बने रह सकते हैं, लेकिन कार्यकाल सीमा का उल्लंघन नहीं कर सकते : अदालत

कांग्रेस द्वारा देशभर में आयोजित की जाने वाली प्रेस कांफ्रेंस को वरिष्ठ कांग्रेस नेता मुकुल वासनिक, सचिन पायलट, मिलिंद देवड़ा, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम, अजय माकन, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और शशि थरूर आदि संबोधित करेंगे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें