पंजाब में बीएसएफ की रेंज बढ़ाने पर कांग्रेस ने सरकार को घेरा

नई दिल्ली। पंजाब में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की रेंज बढ़ाये जाने और बीजेपी शासित गुजरात में बीएसएफ की रेंज बढ़ाये जाने के सरकार के फैसले को लेकर आज कांग्रेस ने सरकार पर तीखे प्रहार किये।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने सरकार पर हमला बोलते हुए इसे संघीय ढांचे पर प्रहार बताया है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार देश में तानाशाही चला रही है। सुरजेवाला ने दावा किया कि यह फैसला इस साल गुजरात में अडाणी द्वारा संचालित मुंद्रा पोर्ट के माध्यम से हेरोइन की आवाजाही से ध्यान भटकाने की कोशिश है।

सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि ”मोदी सरकार ने एक बार फिर देश के संघीय ढांचे पर हमला किया है, चुनी हुई सरकारों के अधिकारों को कुचलने का प्रयास किया है. मोदी सरकार तानाशाही से देश चला रही है। इतना बड़ा फैसला लेने से पहले राज्य से चर्चा भी नहीं की जाती। सुरजेवाला ने कहा कि ”ये प्रजातंत्र पर हमला है, हमारे संघीय ढांचे पर हमला है, इसको कोई बर्दाश्त नही करेगा।

उन्होंने कहा, ”मोदी सरकार और बीजेपी का पंजाब में राजनीतिक अस्तित्व खत्म हो चुका है। ड्रग्स पकड़े गए गुजरात के अडानी पोर्ट में, और अधिकार छीन लिए गए पंजाब के।” उन्होंने आरोप लगाया कि केवल और केवल कांग्रेस की चुनी हुई सरकार को प्रताड़ित करने के उद्देश्य से ये निर्णय हुआ है।

ये भी पढ़ें:  राहुल गांधी का बड़ा वादा: गुजरात में सरकार बनी तो बहाल करेंगे पुरानी पेंशन योजना

कांग्रेस नेता सुरजेवाला ने गृह मंत्री अमित शाह कि ‘क्रोनोलॉजी समझिए’ वाली टिप्पणी को बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र वाले कदम को जून में मुंद्रा बंदरगाह के जरिए गुजरे 25,000 किलोग्राम के शिपमेंट और 20,000 करोड़ रुपये के 3 हजार किलो के शिपमेंट से जोड़ा है।

वहीँ पंजाब में बीएसएफ का अधिकार क्षेत्र बढ़ाये जाने के केंद्र सरकार के फैसले पर पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने नाखुशी जाहिर की है। चन्नी ने ट्वीट करके केंद्र सरकार के द्वारा बीएसएफ को बॉर्डर से सटे 50 किलोमीटर के दायरे में मामले दर्ज करने और गिरफ्तारियां करने जैसे अधिकार दिए जाने और बीएसएफ का दायरा बढ़ाए जाने की निंदा की थी और इसे देश के फेडरल सिस्टम पर हमला करार दिया था।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) कानून में संशोधन कर इसे पंजाब, पश्चिम बंगाल और असम में अंतरराष्ट्रीय सीमा से मौजूदा 15 किलो की जगह 50 किलोमीटर के बढ़े क्षेत्र में तलाशी लेने, जब्ती करने और गिरफ्तार करने की शक्ति दे दी है। वहीं, पाकिस्तान की सीमा से लगते गुजरात के क्षेत्रों में यह दायरा 80 किलोमीटर से घटाकर 50 किलोमीटर कर दिया गया है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें