राष्ट्रपति से मिले कांग्रेस नेता, गृह राज्य मंत्री पर इस्तीफे का दबाव बढ़ा

नई दिल्ली। लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में आज पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की। इस प्रतिनिधिमंडल में राहुल गांधी के अलावा प्रियंका गांधी, मल्लिकार्जुन खड़के, गुलाम नबी आज़ाद, पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी, अधीर रंजन चौधरी आदि शामिल थे।

मुलाकात के बाद पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि खीमपुर खीरी में पीड़ित परिवारों कि मांग है कि जिसने भी उनके बेटे की हत्या करी उसे सज़ा मिले और यह भी कहा कि जिस व्यक्ती ने हत्या की उसके पिता देश के गृह राज्य मंत्री हैं। जब तक वह अपने पद पर हैं तब तक न्याय नहीं मिलेगा। ये बात हमने राष्ट्रपति को बताई है।

वहीँ कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि राष्ट्रपति ने हमको आश्वासन दिया है कि वह आज इस मामले पर सरकार के साथ चर्चा करेंगें। उनकी (केंद्रीय गृह राज्य मंत्री) बर्खास्तगी की मांग कांग्रेस की मांग नहीं है, हमारे साथियों की मांग नहीं है, यह जनता की मांग है और पीड़ित किसान परिवारों की मांग है।

ये भी पढ़ें:  Live: राजस्थान में 92 कांग्रेस विधायकों ने स्पीकर को इस्तीफे सौंपे

गृह राज्य मंत्री पर इस्तीफे का दबाव बढ़ा:

वहीँ बेटे आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी के बाद केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टैनी पर इस्तीफे का दबाव लगातार बढ़ रहा है। माना जा रहा है कि गृह राज्य मंत्री के इस्तीफे की मांग को लेकर विपक्ष सरकार पर अपना दबाव कायम रखेगा।

वहीँ भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने एलान किया है जब तक गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का इस्तीफा और उनकी गिरफ्तारी नहीं होती तब तक आंदोलन जारी रहेगा। बता दें कि लखीमपुर हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टैनी 120 बी का आरोपी बनाया गया है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें