असम में कांग्रेस ने एआईयूडीएफ और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट से गठबंधन तोडा

गुवाहाटी। असम के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ गठबंधन में रहे एआईयूडीएफ और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट से कांग्रेस ने गठबंधन समाप्त करने का एलान किया है।

असम कांग्रेस की प्रवक्ता बोबिता शर्मा ने इस आशय की जानकारी देते हुए कहा कि एक लंबी चर्चा के बाद प्रदेश कांग्रेस की कोर कमेटी के सदस्यों ने सर्वसम्मति से फैसला किया कि एआईयूडीएफ अब महाजोत में भागीदार नहीं रह सकती।

एक प्रेस वार्ता में बोबिता शर्मा ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेन बोरा की अध्यक्षता में हुई कोर कमेटी की एक बैठक में इस पर गौर किया गया कि एआईयूडीएफ का बीजेपे के साथ व्यवहार और रवैये ने कांग्रेस के सदस्यों को चकित कर दिया है।

उन्होंने कहा कि एआईयूडीएफ नेतृत्व और वरिष्ठ सदस्यों की ओर से बीजेपी और मुख्यमंत्री की निरंतर और रहस्यमय प्रशंसा ने कांग्रेस पार्टी के प्रति जनता की धारणा को प्रभावित किया है।

बोबिता शर्मा ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को इस मामले में फैसला लेने का पूरा अधिकार दिया गया और पार्टी से नाता तोड़ने के फैसले की जानकारी आलाकमान को देने का फैसला किया गया।

ये भी पढ़ें:  Lucknow : मुंडन कराने जा रहे ट्रैक्टर-ट्रॉली को ट्रक ने मारी टक्कर, 10 लोगों की मौत

उन्होंने कहा कि बैठक में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, कार्यकारी अध्यक्षों और आगामी उपचुनावों के लिए गठित विधानसभा समितियों के अध्यक्ष को चुनाव रणनीति और उम्मीदवारों के चयन पर निर्णय लेने के लिए पूर्ण अधिकार देने के पहले के निर्णय का भी अनुमोदन किया गया।

गौरतलब है कि इस वर्ष असम में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन ने कुल 50 सीटें जीती थीं, जिसमें कांग्रेस को 29, एआईयूडीएफ ने 16, बीपीएफ ने चार और सीपीआई ने एक सीट हासिल की थी। कांग्रेस के नेतृत्व वाले इस गठबंधन में कुल दस पार्टियां शामिल थीं। इनमे एआईयूडीएफ और बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के अलावा जिमोचायन (देवरी) पीपुल्स पार्टी (जेडीपीपी), आदिवासी नेशनल पार्टी (एएनपी), सीपीआई, भाकपा, भाकपा (माले), अंचलिक गण मोर्चा और आरजेडी भी शामिल थे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें