नारदा स्टिंग: सीबीआई का नया पैंतरा, ममता बनर्जी को भी बनाया पक्षकार

कोलकाता। नारदा स्टिंग मामले में सीबीआई ने अब नया पैतरा अपनाने हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भी इस मामले से जोड़ने की कोशिश की है। जांच एजेंसी ने पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सुप्रीमो ममता बनर्जी को भी कलकत्‍ता हाईकोर्ट में पक्षकार बनाया है।

इतना ही नहीं जांच एजेंसी ने राज्‍य के विधि मंत्री मलय घाटक और टीएमसी सांसद कल्‍याण बनर्जी को भी पक्षकार बनाया है। वहीं, अब सीबीआई ने केस को बंगाल से बाहर ट्रांसफर किए जाने की मांग कोर्ट से की है।

राज्‍य से बाहर केस को ट्रांसफर करने की मांग करते हुए सीबीबाई ने कहा है कि चारों आरोपियों को अभी पुलिस कस्टडी में ही रखा जाए। गौरतलब है कि
हाईकोर्ट की बेंच इन नेताओं के सोमवार को मामले में गिरफ्तारी होने के बाद के सीबीआई कोर्ट द्वारा दी गई जमानत पर रोक लगाने के अपने आदेश को वापस लेने के लिए फिर से दायर की गई याचिका पर भी सुनवाई करेगी।

टीएमसी के चार नेता सुब्रत मुखर्जी, मंत्री फिरहाद हकीम, टीएमसी विधायक मदन मित्रा और कोलकाता के पूर्व महापौर सोवन चटर्जी को गिरफ्तार किया गया था, जिसके बाद सीबीआई कोर्ट ने जमानत दे दी। लेकिन, हाईकोर्ट ने इस पर रोक लगा दी। अभी ये सभी जेल में हैं। इन्हें पुलिस कस्‍टडी में रखे जाने की मांग कोर्ट से सीबीआई ने की है।

ये भी पढ़ें:  कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव: सबसे बड़े दावेदार के तौर पर दिग्विजय सिंह की एंट्री

वहीँ इससे पहले, सीबीआई द्वारा तृणमूल कांग्रेस नेताओं की गिरफ्तारी के बाद खुद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी सीबीआई कार्यालय पहुंची थीं। इसके बाद बड़ी संख्या में तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्त्ता भी सीबीआई कार्यालय के समक्ष जमा हो गए थे और सीबीआई तथा केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की थी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें