मंत्री को बर्खास्त न करके न्याय प्रक्रिया में बाधा डाल रही भाजपा: राहुल गांधी

नई दिल्ली। लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में एक बार फिर पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी को कटघरे में खड़ा किया है। राहुल गांधी ने लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा के पिता केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को बर्खास्त न किये जाने का मामला उठाया है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ““इस मंत्री को बर्खास्त ना करके भाजपा न्याय की प्रक्रिया में बाधा डाल रही है. केंद्र सरकार ना तो किसानों की परवाह करती है, ना ही हत्या के शिकार भाजपा कार्यकर्ताओं की।”

गौरतलब है कि लखीमपुर खीरी हिंसा को लेकर जहां महाराष्ट्र में आज सत्तारूढ़ महाविकास अघाड़ी ने बंद का आयोजन किया, वहीँ केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा को तत्काल बर्खास्त करने की मांग को लेकर कांग्रेस ने देश के कई शहरो में मौन धरने का आयोजन किया।

महाराष्ट्र बंद को सफल बताते हुए एनसीपी नेता और उद्धव सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने कहा कि महा विकास अघाड़ी ने बंद का एलान किया था। हमारी मांग और आवाज़ पर जनता ने समर्थन दिया है। कई जगह यह बंद शांतिपूर्वक देखा गया है। कुछ जगहों पर पत्थरबाजी के मामले भी सामने आए हैं, जो ठीक नहीं है। लोग इस तरह की हरकतें न करें।

ये भी पढ़ें:  कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए 30 सितंबर को नामांकन करेंगे शशि थरूर

लखनऊ में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने लखीमपुर खीरी मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ को बर्खास्त करने की मांग को लेकर ‘मौन धरना’ दिया। पुडुचेरी में पूर्व मुख्यमंत्री वी.नारायणसामी और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने मौन व्रत रख कर लखीमपुर खीरी की घटना के ख़िलाफ़ अपना विरोध जताया।

वहीँ लखीमपुर खीरी हिंसा में शहीद किसानों को न्याय दिलाने के लिए पंजाब में भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रदेश भर में मौन व्रत रखकर गांधीवादी नीतियों का अनुसरण कर विरोध जताया। इसके अलावा झारखंड, बिहार, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, हरियाणा सहित कई राज्यों में भी कांग्रेस द्वारा मौन धरने का आयोजन किया गया।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें