बिहार: सांसद निधि से प्राप्त एम्बुलेंस से शराब की तस्करी का मामला उजागर

पटना। बिहार के छपरा में सांसद निधि से खरीदी गई एम्बुलेंस से शराब की तस्करी का खुलासा होने के बाद विपक्ष ने नीतीश सरकार पर हमला बोला है। छपरा के पुलिस अधीक्षक ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए शराब की तस्करी में सांसद निधि से प्राप्त एम्बुलेंस के पकड़े जाने की पुष्टि की है।

छपरा के एसपी ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए बताया कि “वाहन चेकिंग के दौरान और पूर्व सूचना के आधार पर हमने एम्बुलेंस को श्यामचक इलाके में पकड़ा। चालक को गिरफ़्तार कर लिया है और 4 लोगों के ख़िलाफ़ प्राथमिकी दर्ज़ कर ली गई है।”

वहीँ शराब की तस्करी में सांसद निधि से खरीदी गई एम्बुलेंस के इस्तेमाल का मामला प्रकाश में आने के बाद राष्ट्रीय जनता दल नेता तेजस्वी यादव ने बिहार की नीतीश सरकार पर राज्य में शराब बंदी को लेकर सवाल उठाये हैं।

तेजस्वी यादव ने कहा, “जब हमें एंबुलेंस में मरीज़ों को ले जाने की ज़रूरत थी तो उसमें बालू ले जाई जा रही थी। अब उसमें शराब ले जाई जा रही है। मैंने कल भी इस बात को बोला था कि शराब बंदी कहां है। अब तो फंड की एंबुलेंस से यह सब हो रहा है।”

ये भी पढ़ें:  Assam : अपने 'मृत्यु प्रमाण पत्र' खोने का व्यक्ति ने विज्ञापन किया जारी

गौरतलब है कि इससे पहले बिहार में एम्बुलेंस से बालू की ढुलाई का मामला सामने आ चुका है। जनअधिकार पार्टी (जाप) के अध्यक्ष पप्पू यादव ने एम्बुलेंस से बालू की ढुलाई का वीडियो साझा किया था। इसके बाद बिहार में सांसद निधि से खरीदी गईं एम्बुलेंस के उपयोग को लेकर सवाल उठे थे।

बता दें कि कोरोना काल में बिहार में भी एम्बुलेंस की किल्ल्त का मामला सामने आया था। जनअधिकार पार्टी के नेता राजीव रंजन उर्फ़ पप्पू यादव ने बीजेपी सांसद राजीव प्रताप रूडी के पैतृक गाँव में खड़ी करीब दो दर्जन एम्बुलेंस का भी भाड़ा फोड़ किया था। उसके बाद उन्हें करीब 17 साल पुराने एक मामले में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें