टीएमसी नेताओं की गिरफ्तारी के बाद सीबीआई ऑफिस पर ममता का हल्ला बोल

कोलकाता। नारदा स्टिंग मामले में सीबीआई द्वारा पश्चिम बंगाल सरकार में मंत्री सुब्रत मुखर्जी और फिरहाद हकीम, व पूर्व मेयर शोभन चटर्जी और विधायक मदन मित्रा की गिरफ्तारी के बाद आज पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुद सीबीआई के दफ्तर पहुंची।

ममता बनर्जी के इस हल्ला बोल में टीएमसी कार्यकर्ता भी शामिल हैं और वे सीबीआई ऑफिस के बाहर जमा है तथा नारेबाज़ी कर रहे हैं। खबर लिखे जाने तक ममता बनर्जी सीबीआई दफ्तर के अंदर ही हैं। सीबीआई दफ्तर के बाहर कोलकाता पुलिस के जवानों को भारी संख्या में तैनात है।

बताया जा रहा है कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी निजाम पैलेस स्थित सीबीआई कार्यालय के 14 वे फ्लोर पर हैं और सीबीआई अधिकारियों के साथ बातचीत कर रही हैं। ममता बनर्जी की आपत्ति है कि सीबीआई ने टीएमसी विधायकों की गिरफ्तारी के लिए कोर्ट से अनुमति नहीं ली है और न ही विधानसभा अध्यक्ष की अनुमति ली गई है।

इस बीच विधानसभा के अध्यक्ष बिमान बनर्जी ने कहा कि किस तरह से मंत्रियों और विधायकों को गिरफ्तार किया गया है. राज्पाल ने किस तरह से गिरफ्तारी की अनुमति दी है। किसी भी सदस्य की गिरफ्तारी के पहले विधानसभा की अनुमति लेनी होती है, लेकिन यह अनुमति नहीं ली गई है। यह पूरी तरह से गैर कानूनी है। उन्होंने कहा कि उन्हें लगता है कि अदालत पूरे मामले को खारिज कर देगी और टीएमसी नेताओं के पक्ष में राय देगी।

ये भी पढ़ें:  गहलोत का यूटर्न, कल नामांकन दाखिल करेंगे दिग्विजय सिंह, निर्विरोध निर्वाचित होने की संभावना

वहीँ टीएमसी नेताओं का आरोप हैं कि इसी मामले में बीजेपी के नेता मुकुल रॉय और शुभेंदु अधिकारी भी आरोपी हैं, लेकिन उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है, जबकि आज जब सीबीआई चार्जशीट देने वाली है। ऐसी स्थिति में गिरफ्तारी का क्या औचित्य है।

खबर लिखे जाने तक निज़ाम पैलेस पर हाई वोलटेज ड्रामा जारी है। तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है और वे सड़क पर नारेबाजी कर रहे हैं। फिलहाल ममता बनर्जी के सीबीआई दफ्तर से बाहर आने का इंतज़ार किया जा रहा है। माना जा रहा है कि बाहर आने के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पत्रकारों को पूरी जानकारी देंगी।

पुलिस ने लाठीचार्ज किया:

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक, अभी अभी कोलकाता में CBI कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन करे रहे टीएमसी कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया। जांच एजेंसी द्वारा 4 टीएमसी नेताओं को गिरफ्तार किए जाने के बाद बड़ी संख्या में पार्टी समर्थक CBI कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर रहे थे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें