यूपी में सियासी सस्पेंस के बीच गृहमंत्री अमित शाह से मिले योगी आदित्यनाथ

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में सियासी सस्पेंस के बीच गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अचानक दिल्ली पहुंचे और उन्होंने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की। योगी आदित्यनाथ के साथ अपना दल की सांसद अनुप्रिया पटेल भी मौजूद थीं।

उत्तर प्रदेश में पिछले एक सप्ताह से सियासी सस्पेंस बना हुआ है। अभी हाल ही में प्रदेश बीजेपी प्रभारी राधामोहन सिंह ने लखनऊ में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल विधासभा अध्यक्ष हृदयनाथ दीक्षित से मुलाकात की थी।

गुरुवार को गृहमंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बीच करीब दोई घंटे तक चली बैठक को लेकर अब कयास लगाए जा रहे हैं। बीजेपी सूत्र दावा कर रहे हैं कि विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश मंत्रिमंडल का विस्तार होना है और उसी श्रंखला में योगी आदित्यनाथ ने गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात की है।

योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मिलेंगे और संभावना है कि वे कल ही पीएम नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात कर सकते हैं।

वहीँ दूसरी तरफ बुधवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद के कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल होने के बाद शुरू हुई चर्चाएं आज भी जारी रहीं। सूत्रों की माने तो उत्तर प्रदेश बीजेपी का एक गुट जितिन प्रसाद को बीजेपी की सदस्यता दिए जाने का विरोध कर रहा है। सूत्रों ने कहा कि कई बीजेपी नेता इस बात से नाराज़ हैं कि बीजेपी नेताओं पर भरोसा करने की जगह पार्टी कांग्रेस के लोगों को मौका दे रही है।

ये भी पढ़ें:  कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव: सबसे बड़े दावेदार के तौर पर दिग्विजय सिंह की एंट्री

हालांकि उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी में साफ़ तौर पर दो गुट दिखाई देने शुरू हो गए हैं। इनमे एक गुट मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से खुश नहीं है और वह चुनाव से पहले प्रदेश नेतृत्व में बदलाव चाहता है। हालांकि अभी सार्वजनिक तौर पर कोई भी नेता किसी की आलोचना करने से बच रहा है लेकिन फिलहाल पदेश बीजेपी में तूफ़ान आने से पहले जैसी ख़ामोशी की स्थिति है।

वहीँ यह भी कहा जा रहा है कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी के सहयोगी दलों के कुछ लोगों को मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है और पिछले कुछ दिनों से चल रहा सस्पेंस उसी का हिस्सा है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें