Taiwan Earthquake : ऐसा पहली बार नहीं है जब ताइवान में इतन भयानक भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं।, 23 साल पहले भी मची थी भयानक तबाही

आज से करीब 23 साल पहले 21 सितंबर को ताइवान में भूकंप ने भयानक तबाई मचाई थी।

ताइवान को भूकंप ने झटकों ने हिलाकर रख दिया है। ताइवान में पिछले 24 घंटे में तीन बड़े भूकंप आए। इसके मद्दनेजर जापान ने सुनामी अलर्ट जारी किया गया है। बताया जा रहा है कि दक्षिण-पूर्वी इलाके में स्थित ताइतुंग काउंटी में भूकंप का केंद्र है। शनिवार को इसी इलाके में 6.4 तीव्रता का भूकंप आया था। इसके बाद रविवार की सुबह 6.8 और दोपहर में 7.2 तीव्रता का भूकंप आया। इसका केंद्र ताइतुंग की सतह से 10 किलोमीटर जमीन के अंदर पैदा हुआ था।

शनिवार की रात से अब तक ताइवान की धरती पर 50 से ज्यादा बार भूकंप के बाद के झटके भी महसूस किए गए। जिसकी तीव्रता रिक्टर पैमाने पर करीब साढ़े तीन से साढ़े पांच के बीच रही। भूकंप के तेज झटकों से एक दो मंजिला इमारत ढह गई और एक जगह पर ट्रेन भी पटरी से उतर गई।

23 साल पहले ताइवान में मची थी तबाही
ऐसा पहली बार नहीं है जब ताइवान में इतन भयानक भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। आज से करीब 23 साल पहले 21 सितंबर को ताइवान में भूकंप ने भयानक तबाई मचाई थी। रिपोर्ट्स के मुताबिक इस भूकंप में लगभग 2400 लोगों की मौत हुई थी और 10 से ज्यादा लोग घायल हो गए थे। सैकड़ों की संख्या में लोग इमारतों के नीचे दब गए थे। सड़कें, घर पूरी तरह से तबाह हो गए थे।

ये भी पढ़ें:  कल जारी होगी कांग्रेस अध्यक्ष पद चुनाव के लिए अधिसूचना, इन दिग्गज नेताओं के बीच मुकाबले के आसार

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस भूकंप में एक लाख ज्यादा लोग बेघर हो गए थे। ताइवान एक बार फिर भूकंप की चपेट में है, जापान की मौसम एजेंसी ने एक मीटर ऊंची सुनामी का अलर्ट जारी किया है साथ ही प्रशासन मे तट के पास रहने वाले लोगों ने तटों से दूर रहने का आग्रह किया है।

भारत: अरुणाचल में भी भूकंप
अरुणाचल प्रदेश के दिबांग घाटी में शाम करीब 6.27 बजे 4.4 तीव्रता का भूकंप आया। भूकंप की गहराई जमीन से 10 किमी नीचे थी। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ने यह जानकारी दी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें