दिल्ली में स्थिति काफी गंभीर, ऑक्सीजन और रेमडेसिविर की कमी: केजरीवाल

नई दिल्ली। दिल्ली में प्रतिदिन बढ़ रहे कोरोना संक्रमित मामलो को लेकर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बड़ा बयान दिया है। मुख्यमंत्री ने स्वीकार किया कि दिल्ली की स्थिति काफी गंभीर हो चुकी है।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बात करते हुए अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के लगभग 24,000 मामले सामने आए हैं। पॉजिटिविटी दर 24% से ज्यादा हो गई है। स्थिति काफी गंभीर है। दिल्ली में अब ऑक्सीजन और रेमडेसिविर की कमी होने लगी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ऑक्सीजन बेड बहुत तेजी से खत्म होते जा रहे हैं। सरकार कोशिश कर रही है कि बेड बढ़ाया जाए। उम्मीद है कि अगले 2-4 दिन में हम बड़े स्केल पर बेड बढ़ा पाएंगे। यमुना स्पोर्टस कॉम्पलेक्स और कॉमनवेल्थ गेम्स में लगभग 1300 ऑक्सीजन बेड का इंतजाम किया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि राधा स्वामी सतसंग व्यास में 2,500 बेड का इंतजाम कर रहे हैं उसके बाद 2,500 बेड का और इंतजाम करेंगे। होटलों और बैंकेट हॉल को अस्पतालों से अटैच किया जा रहा है। इस तरह 2,100 ऑक्सीजन बेड बनाने में सफल हुए हैं। उम्मीद है कुछ दिन में लगभग 6,000 बेड एड करने में सक्षम होंगे।

ये भी पढ़ें:  बिहार : ब्लड प्रेसर की नकली दवा के कारोबार का खुलासा बिहार से उड़ीसा तक, आप भी रहें सतर्क

केजरीवाल ने कहा कि कोरोना की लड़ाई के दौरान हमें केंद्र सरकार से हमेशा मदद मिली है। मैं उम्मीद करता हूं कि इस बार भी केंद्र सरकार हमें पूरी मदद देगी। आज अफसरों की बैठक में सख्त निर्देश दिए गए हैं कि कोई भी दवाईयों की कालाबाजारी करता है तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाए।

उन्होंने कहा कि शिकायत आ रही है कि टेस्ट में पिछले कुछ दिनों से 3-4 दिन लग रहे हैं। इसका कारण है कि कुछ लैब ने क्षमता से ज्यादा सैंपल उठाने शुरू कर दिए हैं। ऐसी लैब के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी जो क्षमता से ज्यादा सैंपल उठाते हैं और 24 घंटे के अंदर रिपोर्ट नहीं देते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना से निपटने के लिए हमें मजबूरी में वीकेंड कर्फ्यू लगाना पड़ा। हम अगले कुछ दिनों तक स्थिति पर नजर रखे हुए हैं। अगर स्थिति और गंभीर होती है तो आपकी जिंदगी बचाने के लिए और इसे नियंत्रित करने के लिए जो भी कदम उठाने पड़ेंगे हम उठाएंगे।

इस बीच दिल्ली में वीकेंड लॉकडाउन जारी है। इस दौरान सड़कें खाली नज़र आई। दुकानें बंद दिखाई दी। जगह-जगह पुलिस पेट्रोलिंग करती हुई दिखाई दी। सड़कें पूरी तरह सुनसान दिखाई दे रही हैं।

ये भी पढ़ें:  आशा पारेख : दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित हुईं आशा पारेख, बोलीं?...

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें