पेगासस हैकिंग: संजय राउत बोले, ‘देश की सरकार और प्रशासन कमजोर है’

नई दिल्ली। पेगासस हैकिंग मामले को लेकर सरकार गिरती नज़र आ रही है। इस मामले में जहां विपक्ष सरकार को कटघरे में खड़ा कर रहा है वहीँ शिव सेना ने जांच की मांग की है।

सोमवार को शिवसेना सांसद संजय राउत ने पेगासस हैकिंग मामले में केंद्र सरकार पर निशाना साधा। दिल्ली में संवाददाताओं से बात करते हुए संजय राउत ने कहा कि यह दिखाता है कि देश की ”सरकार और प्रशासन कमजोर है।

राज्यसभा सदस्य राउत ने कहा, ”लोगों के बीच भय का माहौल है। प्रधानमंत्री और गृह मंत्री को इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण देना चाहिए। एक अंतरराष्ट्रीय मीडिया संगठन ने खुलासा किया है कि केवल सरकारी एजेंसियों को ही बेचे जाने वाले इजराइल के खुफिया जासूसी साफ्टवेयर पेगासस के जरिए भारत के दो केन्द्रीय मंत्रियों, 40 से अधिक पत्रकारों, विपक्ष के तीन नेताओं और एक मौजूदा न्यायाधीश सहित बड़ी संख्या में कारोबारियों और अधिकार कार्यकर्ताओं के 300 से अधिक मोबाइल नंबर हो सकता है कि हैक किए गए हों।

उन्होंने कहा, ”महाराष्ट्र में कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले ने फोन टैपिंग का मुद्दा उठाया था। इसमें वरिष्ठ पुलिस अधिकारी शामिल थे और जांच चल रही है। लेकिन इस मामले में तो, विदेशी कंपनी हमारे लोगों, खासकर पत्रकारों के फोन कॉल सुन रही हैं। यह एक गंभीर मुद्दा है। उन्होंने कहा, ”इसमें हैरानी की कोई बात नहीं होगी अगर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का फोन भी टैप किया जा रहा हो।

ये भी पढ़ें:  आज़म खान की मुश्किलें बढ़ीं, जौहर यूनिवर्सिटी की खुदाई में मिली नगर पालिका की मशीन

300 भारतीयों का डेटा हुआ लीक:

जिस पेगासस हैकिंग को लेकर रिपोर्ट सामने आई है, उसे लेकर कहा जा रहा है कि इसमें 300 भारतीयों के फोन नंबर शामिल हैं। जिन लोगों के फोन हैक कर जासूसी की गई उनमे पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तथा चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर के अलावा कई नामी पत्रकारों के फोन नंबर हैं।

द वायर की रिपोर्ट के मुताबिक, लीक हुए डेटा में 300 भारतीय मोबाइल नंबर शामिल हैं, जिनमें 40 मोबाइल नंबर भारतीय पत्रकारों के हैं। भारतीयों के मोबाईल नंबरों की सूची में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी, चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर, पूर्व चुनाव आयुक्त आखोक लवासा, मंत्री अश्विनी वैष्णव और प्रह्लाद पटेल, टीएमसी नेता अभिषेक बनर्जी, सुप्रीम कोर्ट के एक कर्मचारी का पूरा परिवार जिसने तत्कालीन सीजेआई रंजन गोगोई पर 2019 में यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था का नाम भी शामिल है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें