जैन समाज आक्राेशित: अनूप मंडल की गतिविधियों पर स्थाई राेक लगाने के लिए सौंपा ज्ञापन

  • साध्वी-संतों पर टिप्पणी से जैन समाज आक्राेशित

नागदा/ उज्जैन(विशाल जैन)। राजस्थान, गुजरात, महाराष्ट्र व उत्तरप्रदेश में संचालित सामाजिक संगठन अनूप मंडल द्वारा जैन धर्म व उनके अनुयायियों के खिलाफ निरंतर दुष्प्रचार पर आक्रोश जताते हुए जैन समाज के लोगों ने ज्ञापन दिया।

जैन समाज के लोगों का आरोप है कि मंडल महंत अपने अनुयायी को उपदेश दे रहे हैं कि इस दुनिया में जैन धर्म के अनुयायियों ने राक्षसी शक्ति और काला जादू का उपयोग कर स्वाइन फ्लू, एड्स, मलेरिया, टाइफाइड जैसी बीमारी बनाई है। वर्तमान में वैश्विक कोरोना महामारी जैन समाज से आई है।

मंडल मुखिया महंत मुकनराम का कहना है कि जैन समाज अपनी राक्षसी गतिविधियों का संचालन बरमूडा ट्राय-एंगल के 1 हजार फीट नीचे से संचालित करता है। उक्त दुष्प्रचार पर स्थाई रोक लगाने की मांग को लेकर शनिवार सुबह 11.30 बजे स्थानीय सर्किट हाउस पर नवकार कपल ग्रुप द्वारा राष्ट्रपति के नाम एसडीएम आशुतोष गोस्वामी को ज्ञापन सौंपा गया।

नवकार कपल ग्रुप अध्यक्ष डाॅ. विपिन वागरेचा ने बताया कि ज्ञापन में यह मांग की गई है कि अनूप मंडल जैसी अराजक संस्था और इनके अनुयायी द्वारा लिखी गई पुस्तक जगत हितकारिणी पर पूर्ण रूप से रोक लगाई जाए। अनूप मंडल के मुखिया महंत मुकनराम पर जैन धर्म के विरुद्ध फैलाई जा रही भ्रामक जानकारी देने के लिए सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए।

ये भी पढ़ें:  झारखंड : तेंदुए के हमले में दो वनकर्मी घायल

ज्ञापन में कहा गया है कि हमारे समाज की धरोहर जैन साधु-साध्वी भगवतों को विहार के दौरान पूर्ण रूप से पुलिस सुरक्षा प्रदान की जाए। ज्ञापन सौंपते समय कोविड प्रोटोकाल का पालन कर संस्थापक अध्यक्ष राजेश सकलेचा, संरक्षक राजेश धाकड़ व शरद जैन माैजूद थे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें