क्या प्रियंका के फॉर्मूले पर लग गई मुहर? प्रियंका के बाद राहुल से मिले सिद्धू

नई दिल्ली। पंजाब में मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच चल रही तकरार को विराम देने के लिए पार्टी हाईकमान की तरफ से पुरजोर कोशिश की जा रही है। इसी श्रंखला में आज नवजोत सिंह सिद्धू ने दोपहर में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी से और रात में पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने नवजोत सिंह सिद्धू से मिलने के तुरंत बाद कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने दस जनपथ भी गई थीं। सूत्रों की माने तो पंजाब में चल रही तकरार तो थामने के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी द्वारा रखा गया प्रस्ताव नवजोत सिंह सिद्धू ने स्वीकार कर लिया है।

सूत्रों के मुताबिक, प्रियंका अपने फॉर्मूले पर अंतिम मुहर के लिए कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलने उनके आवास दस जनपथ पहुंची थीं। सूत्रों की माने तो सोनिया गांधी ने भी प्रियंका गांधी के फॉर्मूले पर अपनी मुहर लगा दी है। इसके बाद पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच मुलाकात का समय तय किया गया। हालांकि मंगलवार को राहुल गांधी ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू मो मुलने के लिए दिल्ली नहीं बुलाया है।

ये भी पढ़ें:  PAYCM पोस्टर कैंपेन मामले में हिरासत में लिए गए कांग्रेस नेता

सूत्रों की माने तो पंजाब में अगले वर्ष विधानसभा चुनावो को ध्यान में रखते हुए पार्टी हाईकमान कैप्टेन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह के बीच का रास्ता निकालने में कामयाब रही है। इस फॉर्मूले के तहत नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब से बाहर पार्टी में कोई बड़ी ज़िम्मेदारी या प्रभार मिल सकता है।

हालांकि कांग्रेस ने राहुल गांधी और सिंद्धु के बीच हुई मुलाकात को लेकर आधिकारिक तौर पर कुछ भी नहीं कहा है लेकिन सूत्रों ने पंजाब में कांग्रेस की कलह जल्द थमने के संकेत दिए हैं।

गौरतलब है कि कांग्रेस की पंजाब यूनिट में चल रहे कलह के मामले में सिद्धू दूसरी बार दिल्ली आए हैं। सूत्रों ने कहा कि आज दिनभर दिल्ली में चले बैठकों के दौर के बाद अब पंजाब में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव में नवजोत सिंह सिद्धू के समर्थक नेताओं को टिकिट दिए जाने तथा सिद्धू को पार्टी में बड़ा पद दिए जाने की संभावनाएं बनी है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें