महिला सुरक्षा पर कमलनाथ ने शिवराज को घेरा, पूछा ‘मध्य प्रदेश में ये क्या हो रहा है?’

भोपाल ब्यूरो। मध्य प्रदेश में महिला सुरक्षा को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। कमलनाथ ने दो घटनाओं का ज़िक्र करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से सवाल किया कि मध्य प्रदेश में यह क्या हो रहा है।

कमलनाथ ने कहा कि भाजपा प्रदेश में चुनाव को देखते हुए कन्या पूजन के कार्यक्रम कर रही है और आज सबसे ज्यादा आवश्यकता बहन-बेटियों को सबसे पहले सुरक्षा देने की है।

पूर्व सीएम कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा, ‘नवरात्रि के पावन पर्व में रीवा में मासूम बच्ची के साथ दुष्कर्म की घटना के सामने आने के बाद अब धार जिले में मांडवी गांव में एक महिला की बर्बर तरीके से पिटाई कर नग्न करने का विभत्स वीडियो सामने आया है।’

उन्होंने कहा कि यह हो क्या रहा है मध्य प्रदेश में…? एक तरफ नवरात्रि का पावन पर्व चल रहा है वहीं दूसरी तरफ प्रदेश में बहन-बेटियों के साथ रोज़ घटित घटनाएं प्रदेश को देशभर में शर्मसार कर रही है।

कमलनाथ ने कहा कि आज बहन-बेटियों के साथ प्रदेश में भाजपा सरकार में दुष्कर्म-उत्पीड़न की घटनाएं रोज घटित हो रही है।मासूम बच्चियाँ ना घर में सुरक्षित है ना बाहर। उन्होंने कहा कि एनसीआरबी के ताज़ा आंकड़ों में भी मध्यप्रदेश मासूम बच्चों से अपराधों में देश में शीर्ष पर आकर, बच्चों के मामले में देश के सबसे असुरक्षित राज्य के रूप में सामने आया है। आज आवश्यकता सबसे पहले उन्हें सुरक्षा देने की है।

ये भी पढ़ें:  आज़म खान की मुश्किलें बढ़ीं, जौहर यूनिवर्सिटी की खुदाई में मिली नगर पालिका की मशीन

बता दें कि मध्य प्रदेश में कानून व्यवस्था और महिला सुरक्षा को लेकर कमलनाथ पहले भी प्रदेश सरकार को कटघरे में खड़ा कर चुके हैं। राज्य में एक लोकसभा और तीन विधानसभा सीट पर उप चुनाव होने हैं। ऐसे में कानून व्यवस्था का मुद्दा राज्य सरकार पर भारी पड़ सकता है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें