राहत के आसार: अगले हफ्ते से मिलने लगेगी स्पूतनिक-वी वैक्सीन

नई दिल्ली। देश में कोरोना माहमारी के बीच पैदा हुई वैक्सीन की किल्ल्त जल्द खत्म होने की संभावना है। इस बीच सरकार ने आज जानकारी दी है कि देश में अगले सप्ताह से स्पूतनिक वी वैक्सीन उपलब्ध हो जायेगी। रूस की कोरोना वैक्सीन स्पुतनिक-V का दूसरा बैच कल भारत पहुंचेगा।

गुरुवार को नीति आयोग के सदस्य  डॉ. वीके पॉल ने कहा कि भारत के बाजार में अगले हफ्ते से स्पुतनिक-वी वैक्सीन की बिक्री शुरू हो जाएगी। उन्होंने कहा कि जुलाई से इस वैक्सीन का उत्पादन भी भारत में शुरू हो जाएगा।

पॉल ने कहा कि एफडीए, डब्ल्यूएचओ द्वारा अनुमोदित कोई भी वैक्सीन की कंपनी भारत आ सकती है। आयात लाइसेंस 1-2 दिनों के भीतर दे दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोई भी आयात लाइसेंस लंबित नहीं है।

भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 3,62,727 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 2,37,03,665 हुई। 4,120 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 2,58,317 हो गई है। देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 37,10,525 है और डिस्चार्ज हुए मामलों की कुल संख्या 1,97,34,823 है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, देश में कुल 17,72,14,256 लोगों को कोरोना वायरस की वैक्सीन लगाई गई है।

ये भी पढ़ें:  अख़बारों से लुप्त होता साहित्य

स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि देश में अब तक 83.26% मामले ठीक हुए हैं। देश में करीब 37.1 लाख सक्रिय मामलों की संख्या बनी हुई है। 3 मई को रिकवरी रेट 81.3% थी जिसके बाद रिकवरी में सुधार हुआ है। पिछले 24 घंटों में देश में 3,62,727 मामले दर्ज़ किए गए हैं।

उन्होंने कहा कि देश में 12 राज्य ऐसे हैं जहां 1 लाख से भी ज्यादा सक्रिय मामले हैं। 8 राज्यों में 50,000 से 1 लाख के बीच सक्रिय मामलों की संख्या बनी हुई है। 16 राज्य ऐसे हैं जहां 50,000 से भी कम सक्रिय मामलों की संख्या बनी हुई है तथा देश में 24 राज्य शासित प्रदेश ऐसे हैं जहां 15% से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट है। 5-15% पॉजिटिविटी रेट 8 में है। 5% से कम पॉजिटिविटी रेट 4 में है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें