रामदेव की मुश्किलें बढ़ीं: IMA ने कई संगीन धाराओं में दर्ज कराया केस

नई दिल्ली। एलोपैथी चिकित्सा पद्धति को लेकर योग गुरु बाबा रामदेव का बयान उन्हें भारी पड़ सकता है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) ने बाबा रामदेव के बयान के खिलाफ कड़े तेवर दिखाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

आईएमए ने अब रामदेव के खिलाफ महामारी रोग अधिनियम 1897, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत और कानून के अन्य सभी प्रासंगिक प्रावधानों के तहत अपराध करने के लिए दिल्ली के एस्टेट थाने में शिकायत दर्ज कराई है।

इससे पहले आईएमए बाबा रामदेव को एक हज़ार करोड़ की मानहानि का नोटिस भेजने के अलावा रामदेव के खिलाफ राजद्रोह का मुकदमा दर्ज करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी को भी पत्र लिख चुका है।

इतना ही नहीं इंडियन मसिकल एसोसिएशन की उत्तराखंड इकाई ने राज्य के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को पत्र लिख कर रामदेव के खिलाफ तुरंत एक्शन करने की मांग भी की है।

अपने बयान पर चौतरफा घिरे रामदेव ने पहले ही अपना बयान वापस ले लिया है लेकिन इस बीच रामदेव का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमे वह कहते दिख रहे हैं कि “उन्हें किसी का बाप भी गिरफ्तार नहीं कर सकता।”

ये भी पढ़ें:  Bharat Jodo Yatra : सोनिया गांधी 6 अक्टूबर को कर्नाटक में यात्रा से जुड़ेंगी, जानिए क्यों थी दूर?

गिरफ्तारी को लेकर बाबा रामदेव द्वारा दिये गए इस बयान ने आग में घी डालने का काम किया है। रामदेव के बयान की चौतरफा आलोचना हो रही है। रामदेव के बयान पर तृणमूल कांग्रेस सांसद महुआ मोइत्रा ने भी इशारे इशारे में सरकार पर निशाना साधा है।

रामदेव के बयान पर महुआ मोइत्रा ने ट्वीट कर कहा कि ‘स्वामी रामदेव को गिरफ्तार तो किसी का बाप भी नहीं कर सकता। भाई और बाप तो विपक्ष को गिरफ्तार करने में व्यस्त हैं।’

महुआ मोइत्रा का बयान पश्चिम बंगाल में सीबीआई द्वारा नारदा स्टिंग मामले में की गई तृणमूल कांग्रेस नेताओं की गिरफ्तारी से जोड़कर देखा जा रहा है। गौरतलब है कि एलोपैथी को स्टुपिड साइंस बताते वाले बाबा रामदेव के खिलाफ इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने कड़े तेवर दिखाए हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें